मुरादाबाद [प्रदीप चौरसिया]। Railway Branded Company Water Facility : ट्रेन और रेलवे स्टेशनों पर अब आप मनपसंद ब्रांड का बोतल बंद पानी खरीद सकते हैं। रेल नीर खरीदने की बाध्यता खत्म होने जा रही है। मंडल रेल प्रशासन ने इसके लिए चार सदस्यीय समिति गठित की है। समिति की रिपोर्ट के बाद रेल नीर के साथ अन्य ब्रांड का पानी उपलब्ध होगा।

रेलवे प्रशासन यात्रियों को उनकी सुविधा के अनुसार सेवा उपलब्ध कराने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। लग्जरी ट्रेनों में तेजस ट्रेन चलाई जा रही है। अपने पसंद का खाना मांगने के लिए आनलाइन आर्डर देने की व्यवस्था की है। लेकिन बोतल बंद पानी के मामले में यात्रियों को उनके पसंद का पानी नहीं मिल पाता है। रेल प्रशासन सभी ट्रेनों में रेल नीर की बिक्री करता है। छोटे स्टेशनों को छोड़कर सभी बड़े स्टेशनों पर भी रेल नीर बिक्री करने के आदेश हैं। इसके अलावा अन्य ब्रांड के बोतल बंद पानी की बिक्री करने पर रोक है। इससे बाजार में प्रचलित ब्रांड का पानी रेल यात्र‍ियों को नहीं म‍िल पाता है। रेलवे बोर्ड ने किस स्टेशन पर क्या बिकेगा, यह तय करने का अधिकार मंडल रेल प्रशासन को सौंपा है। इसमें यात्रियों के पसंद के खाने-पीने का सामान उपलब्ध कराना है। साथ ही स्थानीय खान-पान की बिक्री कराने पर जोर दिया जाना है। इसके साथ ही यात्रियों को अपने पसंद के बोतल बंद पानी उपलब्ध कराने का आदेश द‍िए गए हैं। इसके बाद बोतल बंद पानी बनाने वाली कंपनियों ने भी आवेदन भी किया है। रेलवे के शर्त में ट्रेन व स्टेशनों पर अन्य ब्रांड की बोलत बंद पानी 15 रुपये की दर बिक्री करनी होगी। 

हरिद्वार में पतंजल‍ि का बोतल बंद पानी काफी प्रचलित है, स्टेशन पर उसकी भी बिक्री करने की अनुमति म‍िलेगी। इसके अलावा किंग फिशर जैसी कई कंपनियों ने बोतल बंद पानी स्टेशनों पर बेचने की अनुमति मांगी है। मंडल रेल प्रशासन ने चार जूनियर अधिकारियों की समिति गठित की है। समिति के सदस्य आवेदन करने वाली कंपनियों के पानी पैक करने वाले प्लांट का निरीक्षण करेंगी। समिति की रिपोर्ट के आधार पर ब्रांडेड कंपनियों की बोतल बंद पानी बेचने की अनुमति दी जाएगी। प्रवर मंडल वाणिज्य प्रबंधक सुधीर सिंह ने बताया कि रेल नीर के अलावा ब्रांडेड कंपनी का पानी बेचने की अनुमति देने के लिए अधिकारियों की एक समिति बनाई गई है। समिति की रिपोर्ट मिलते ही स्टेशनों पर ब्रांडेड कंपनियों की बोतल बंद पानी की बिक्री शुरू हो जाएगी।

Edited By: Narendra Kumar