मुरादाबाद, जेएनएन। उत्तर प्रदेश पुलिस कांस्टेबल भर्ती प्रक्रिया में री-मेडिकल के दौरान धांधली में एडी हेल्थ कार्यालय के कई लोगों की कुंडली खंगाली जा रही है। इसमें उनकी कॉल डीटेल के साथ वाट्सएप चेटिंग भी देखी जाएगी। री-मेडिकल कराने वालों से कितना संपर्क हुआ है। एक-एक री-मेडिकल के कितने रुपये लिए गए हैं आदि सुुबूत जुटाए जा रहे हैं। जांच शुरू होने के बाद से स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है।

री-मेडिकल प्रकरण में पुलिस एडी हेल्थ कार्यालय के कर्मचारियों की कुंडलियां खंगाल रही है। इसमें उनकी कॉल डीटेल के साथ ही वाट्सएप चेटिंग भी देखी जाएगी। कॉल डीटेल में देखा जाएगा कि री-मेडिकल वालों से किसने कितनी बार बात की है। इसके बाद एक-एक कर सभी पूछताछ भी होगी। जांच शुरू होने के बाद से एडी हेल्थ कार्यालय के कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है। हर कोई एक दूसरे को शक की निगाह से देख रहा है। अब देखने वाली बात ये होगी कि री-मेडिकल में अनफिट को फिट करने वाले पकड़ में आएंगे या फिर जांच बीच में ही अटक जाएगी।

मेडिकल बोर्ड में कई डॉक्टर री-मेडिकल की जांच पुलिस के स्तर से ही जा रही है। जांच में क्या निकलता है। ये तो बाद में ही पता चलेगा।

डॉ सत्य सिंह, संयुक्त स्वास्थ्य निदेशक

ये है मामला

उत्तर प्रदेश पुलिस में वर्ष 2018-19 की भर्ती प्रक्रिया फिलहाल जारी है। मुरादाबाद में जिला स्तर पर गठित मेडिकल बोर्ड ने सात से 11 सितंबर तक पुलिस लाइन में कुल 215 अभ्यर्थियों का मेडिकल किया था। इसमें 185 पुरुष व 30 महिला अभ्यर्थी शामिल हुईं। मेडिकल परीक्षा में महज 176 अभ्यर्थी ही सफल हो पाए थे। मेडिकल परीक्षा में मुरादाबाद मंडल के 51 अभ्यर्थी पास नहीं हुए। मंडलीय मेडिकल बोर्ड ने छह को छोड़ 45 को फिट घोषित कर दिया था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस