मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। Gram Sachivalaya in Moradabad : जिले में पंचायत सहायकों की नियुक्ति तो हो चुकी है। लेकिन, अभी तक ग्राम सचिवालयों की स्थापना नहीं हो सकी है। इसलिए पंचायत सहायकों ने अभी काम ही नहीं शुरू किया है। दीपावली के बाद ही ग्राम सचिवालय तैयार होने लगेंगे। तब तक पंचायत विभाग पंचायत सहायकों को बिना काम ही वेतन देगा।

जिले में 643 ग्राम पंचायतें हैं। शासन की प्राथमिकता यह है कि विधानसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश की सभी ग्राम पंचायतों के अपने सचिवालय हों ताकि चुनाव के समय वह इस बदलाव को अपने खाते में जोड़कर वोट मांग सकें लेकिन, अधिकारियों की हीलाहवाली की वजह से अभी तक ग्राम सचिवालय पूरी तरह से बनकर तैयार ही नहीं हो पाए हैं। जहां बन चुके हैं, वहां बिजली, पानी और इंटरनेट की व्यवस्थाएं होना अभी बाकी हैं। इसलिए ग्राम सचिवालय चालू नहीं हो पा रहे हैं। उधर, जिले की 626 ग्राम पंचायतों में पंचायत सहायकों की नियुक्ति हो चुकी है। लेकिन, अभी तक उनके पास कोई काम नहीं है। ग्राम सचिवालयों की स्थापना होने के बाद पंचायत सहायकों का काम शुरू होगा। साइबर कैफे के माध्यम से पंचायत सहायक योजनाओं में ग्रामीणों की मदद करेंगे। किसी ग्रामीण को योजना का लाभ लेने के लिए जिला मुख्यालय दौड़ना नहीं पड़ेगा। दस दिन पहले ही शासन के आदेश पर मुरादाबाद के सभी ब्लाकों में हुई पंचायत सहायकों की भर्ती में सभी को नियुक्ति दे दी गई है। लेकिन, अभी तक किसी पंचायत सहायक को दायित्व नहीं मिला है। ऐसे में सरकार को दीपावली तक पंचायत सहायकों को बिना काम से ही वेतन देना होगा। जिला पंचायत राज अधिकारी आलोक कुमार प्रियदर्शी ने बताया कि कुछ ग्राम पंचायतों में ग्राम सचिवालय शुरू कराया जा रहा है। पंचायत सहायकों को काम आवंटित कर दिए गए हैं। बाकी में जल्द ही ग्राम सचिवालयों की स्थापना करके ग्रामीणों को हर सुविधा दिलाने की कोशिश की जा रही है।

 

Edited By: Narendra Kumar