मुरादाबाद, जेएनएन। उत्तराखंड के जोशीमठ में ग्लेशियर टूटकर गिरने से भारी तबाही मचने पर सोमवार को अमरोहा में गंगा का जलस्तर बढ़ने का खतरा फ‍िलहाल टलता हुआ नजर आ रहा है। 24 घंटे की चौकसी के बाद भी गंगा की स्थिति सामान्य बनी हुई है। हरिद्वार डैम से अधिक मात्रा में पानी छोड़े जाने की अभी तक सूचना नहीं है। सामान्य दिनों की तरह ही 10 हजार क्यूसेक से कम मात्रा में पानी डिस्चार्ज किया जा रहा है।

बता दें कि रविवार की सुबह उत्तराखंड के श्रीनगर से ऊपर जोशीमठ में ग्लेशियर टूटकर गिरने के बाद वहां भारी तबाही मचने पर उत्तर प्रदेश सरकार ने उत्तराखंड से सटे गंगा के नजदीक वाले जनपदों में अलर्ट जारी कर द‍िया था। इसको लेकर अमरोहा प्रशासन ने भी सतर्कता बरतते हुए तिगरी व ब्रजघाट में बाढ़ की आशंका के चलते घाट खाली करा दिए थे। दुकानों व पुरोहितों की झोपड़ियां हटवा दीं थीं। वहींं समीप के गांवों में भी डुगडुगी से मुनादी कराकर किसानों से सुरक्षित स्थानों पर रहने और गंगा के दायरे ओर सटे खेतों पर नहीं जाने के प्रत‍ि आगाह क‍िया था। वहीं डीएम उमेश मिश्र व एसपी सुनीति ने स्वयं भी अन्य अधिकारियों के साथ तिगरी पहुंचकर गंगा तट का जायजा लिया था। इधर सोमवार की सुबह मुरादाबाद-अमरोहा के बाढ़ खंड के एक्सइएन मनोज कुमार ने बताया कि उत्तराखंड की घटना के मद्देनजर गंगा का जलस्तर बढ़ सकने के आसार अब कम ही हैं। सब कुछ नियंत्रित कर लिए जाने की सूचनाएं मिल रहीं है। फिर भी सतर्क रहने की अभी जरूरत है। हरिद्वार डैम से दस हजार क्यूसेक से कम ही पानी डिस्चार्ज किया जा रहा है। यही रूटीन रहता है। इस कारण गंगा का जलस्तर नहींं बढ़ा है। सामान्य दिनों की तरह ही गंगा का बहाव बना है। हालांकि गंगा के जलस्तर पर अभी भी नजर रखी जा रही है। बाढ़ चौकियों पर स्टाफ भी अलर्ट है। 

Edited By: Narendra Kumar