मुरादाबाद, संवाद सहयोगी। Ganga water level : अमरोहा में तिगरी गंगा के जलस्तर में बढ़ोत्तरी होने का क्रम जारी है। गुरुवार को बिजनौर बैराज से 72877 क्यूसेक पानी छोड़ने के बाद गंगा का जलस्तर बढ़कर 200.10 सेमी हो गया है। गंगा किनारे के खेतों व गांव में फिर से पानी पहुंचने लगा है। इससे ग्रामीणों के सामने परेशानी आने लगी है।

बुधवार तक गंगा का जलस्तर 200.00 सेमी दर्ज किया गया था लेकिन, बिजनौर बैराज से छोड़े जा रहे पानी के बाद गुरुवार को दस सेमी जलस्तर बढ़ गया। गंगा का दायरा बढ़ने के साथ-साथ कटान की समस्या भी बढ़ती जा रही है। घाटों के किनारे रखी झोपड़ियों में भी पानी भर गया है। इसके अलावा खादर क्षेत्र के शीशोवाली, टीकोवाली, दारानगर समेत कई गांवों के नजदीक तक पानी पहुंच चुका है। इससे ग्रामीणों को चारा काटने में भी परेशानी हो रही है। स्थिति यह है कि पानी अब गांवों के मुख्य रास्तों पर पहुंचने लगा है। जिससे एक बार फिर से दुश्वारियां पैदा होने लगी हैं। ब्रजघाट में गंगा उफान के साथ बह रही है। बता दें कि कुछ दिनों पूर्व गंगा शांति के साथ बह रही थी। बाढ़ खंड विभाग के जेई अनवार अली ने बताया कि पहाड़ी इलाकोंं में बारिश होने से तिगरी गंगा जलस्तर बढ़ने लगा है। हालांकि खतरे जैसी कोई बात नहीं है। गांव शीशोवाली के प्रधान पति हरपाल सिंह ने बताया कि गंगा के जलस्तर में इजाफा होने से फिर से खेतों में पानी घुसने लगा है।

मंदिर का रास्ता ठीक कराने की मांग : गंगा सेवा समिति के कार्यकर्ताओं ने एसडीएम संजय बंसल को ज्ञापन देकर चामुंडा मंदिर मार्ग का रास्ता ठीक कराने की मांग की है। लोगों का कहना है कि इस मंदिर से लोगों को बड़ी आस्था है प्रतिदिन सैकड़ों भक्त मंदिर में पूजा अर्चना करने को पहुंचते हैं। लेकिन, मंदिर तक जाने के लिए रास्ता खराब होने से परेशानी झेलनी पड़ रही है। ज्ञापन देने वालों में अंकुर अग्रवाल, अभिषेक कुमार, जागेश चैहान, मोहित अग्रवाल, संकेत अग्रवाल, राहुल मित्तल, सोभित अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

Edited By: Narendra Kumar