मुरादाबाद, जेएनएन। राष्ट्रीय राजमार्ग (नेशनल हाईवे)पर वाहन चलाने वालों के लिए राहत की खबर है। अब टोल प्लाजा पर बिना शुल्क चुकाए फास्टैग बनवा सकेंगे। शनिवार से यह अभियान शुरू होगा और 29 फरवरी तक यह मौका रहेगा। नेशनल हाईवे 24 यानी दिल्ली-लखनऊ रूट के नियामतपुर इकरोटिया टोल(मूंढापांडे)पर रोजाना 14 से 17 हजार वाहन गुजरते हैं। इन चार पहिया वाहनों को टोल पर कर चुकाना होता है। एनएचएआई ने आनलाइन सर्विस यानी फास्टैग सेवा से टोल शुल्क की वसूली का प्रबंध किया है। जिन वाहनों के लिए यह सेवा है, उन्हें टोल पार करने के लिए आसानी से रास्ता मिल जाता है।मुरादाबाद रूट पर चलने वाले वाहनों में करीब 65 फीसद वाहनों में फास्टैग की सुविधा ले ली गई है। राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण सभी भारी वाहनों में यह सर्विस अनिवार्य करने में जुटी है। नब्बे फीसद वाहनों को फास्टैग यानी चिप सेवा से चलाने की योजना है। पंद्रह दिसंबर से देश भर में इस कार्य के लिए खास प्रयास हो रहे हैं।

फास्टैग जारी कराने के लिए यह चाहिए

चार पहिया वाहनों के पंजीयनपत्र, बीमा के कागजात, प्रदूषण प्रमाणपत्र, डीएल और चालक अथवा वाहन स्वामी के पहचानपत्र के साथ इस सेवा के लिए आवेदन करना होता है। टोल एजेंसी और बंैकों को यह काम दिया गया है। सभी प्रपत्रों को लेने के बाद वाहन के नाम एक कार्ड जारी कर देती है, जिसके आधार पर वाहन के नंबर से चालक को उस चिप को रिचार्ज कराना होता है।

टैग ऐसे करता है काम:

वाहन पर लगे कार्ड अथवा चिप को टोल के स्थापित कैमरे स्कैन कर लेते हैं और गाड़ी के स्वामी के खाते से टोल का शुल्क आनलाइन कट जाता है। इससे वाहन को टोल पर रास्ता मिल जाता है।

नियामतपुर टोल का शुल्क

कार चार पहिया 120 रुपये

ट्रक सामान्य साइज 375 रुपये

ट्रक दस चक्का 575 रुपये

दस से अधिक चक्के के वाहन 750 रुपये

केंद्र पर कुल छह काउंटर पर यह सेवा है। अभी तक औसतन सत्तर से सौ वाहनों के फास्टैग हर दिन लिए जा रहे हैं। पंद्रह फरवरी से इसके शुल्क नहीं लिए जाएंगे, जबकि रिचार्ज की दर पूर्ववत रहेगी।

पृथ्वी राठी, प्रबंधक यातायात 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस