अमरोहा: गजरौला से सरकारी अस्पताल में प्रसव के दौरान शिशु की मौत होने पर गुस्साए परिजनों ने स्टाफ पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया। मौके पर पहुँचे चिकित्सकों ने परिजनों को समझाकर शांत किया। मामले की शिकायत डीएम से की गई है। 

ऐसे बिगड़ी जच्चा की हालत

 

मंगलवार की सुबह छह बजे खादर क्षेत्र के गांव दारा नगर निवासी ब्रह्मसिंह की पत्नी दयावती को प्रसव पीड़ा हुई। इस पर परिजनों ने उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। प्रसव के दौरान शिशु की मौत हो गई। आरोप है कि शिशु की मौत होने बाद जच्चा की भी हालत बिगड़ गई। उसकी ब्लीडिंग नहीं रुक पाई। इस पर ओटी में तैनात स्टाफ ने हाथ खड़े करते हुए उसे रेफर कर दिया। परिजन आनन-फानन में उसे लेकर एक निजी चिकित्सालय पहुंचे तो वहां पर भी बच्चे को मृत घोषित कर दिया। इसके बाद परिजन सीएचसी पहुंचे और हंगामा करने लगे। 

बोले डाक्टर- मृत अवस्था में पैदा हुआ शिशु 

मौके पर पहुँचे चिकित्सकों ने परिजनों को समझाकर मामला शांत किया। मामले की शिकायत डीएम से की गई है। चिकित्सा अधिकारी डॉ. कामेंद्र सिंह ने बताया कि शिशु मृत अवस्था में ही पैदा हुआ था।

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस