मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मुरादाबाद : अगवानपुर से शुरू हुई एक छोटी की लव स्टोरी तीन माह में निकाह और तलाक तक पहुंचने के बाद खत्म हो गई। किशोरी अपने प्रेमी को छोड़ उसके दोस्त के साथ फरार हो गई थी। मामले की शिकायत पुलिस तक पहुंची। पुलिस ने प्रेमी और उसके दोस्त दोनों को जेल भेज दिया। किशोरी के निकाह को कोर्ट ने नामंजूर कर दिया, जिस पर उसे परिजनों के हवाले कर दिया। ये है पूरा मामला छोटी सी उम्र में हुए इश्क की शुरुआत सिविल लाइन के अगवानपुर से हुई थी। बिजनौर के चांदपुर स्थित काजी सराय में रहने वाले सलीम के भाई की शादी अगवानपुर से तय हुई थी। दोनों परिवारों का आना-जाना हो गया था। हालांकि वो रिश्ता टूट गया। इसी बीच सलीम को वहां की एक किशोरी से प्यार हो गया। सलीम दिल्ली में किसी कंपनी में काम करता है। 18 सितंबर को सलीम अपने साथ किशोरी को लेकर भाग गया, जबकि किशोरी के पिता ने उसके अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया। इसी बीच सलीम ने किशोरी से निकाह कर लिया। हनीमून मनाने के लिए किशोरी के साथ सलीम हरिद्वार के पिरान कलियर गया था। वहीं पर किशोरी को सलीम अपने दोस्त दानिश के घर ले गया। वहां 15 दिन रहने के बाद किशोरी को दानिश से प्यार हो गया। किशोरी ने सलीम को तलाक दे दिया। तभी सलीम ने पुलिस को पूरे मामले से अवगत कराया। पुलिस ने दानिश और सलीम को पकड़कर किशोरी को बरामद कर लिया। किशोरी का मेडिकल कराया गया तो उसकी उम्र 20 साल निकली। क्लास एक की जन्म तिथि के आधार पर वह नाबालिग है। कोर्ट ने रद किया निकाह कोर्ट ने नाबालिग मानते हुए निकाह को रद कर दिया। साथ ही किशोरी के बयान दर्ज कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया। सलीम और दानिश पर दुष्कर्म, अपहरण और पोक्सो एक्ट में कार्रवाई करते हुए जेल भेज दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप