जागरण संवाददाता, मुरादाबाद :

कोयला की मालगाड़ियों की संख्या बढ़ने से ट्रेनों का संचालन प्रभावित हो रहा है। रात में ट्रेनें बरेली से मुरादाबाद डेढ़ घंटे के बजाय तीन से चार घंटे में पहुंच रही थीं। कई ट्रेनों को कटघर यार्ड में रोका गया।

बिजली की आपूर्ति बाधित होने से बचाने के लिए झारखंड, पूर्वोत्तर राज्यों से लगातार कोयला पंजाब के तापीय बिजली घरों को भेजा जा रहा है। रेल प्रशासन कम समय में कोयला को पहुंचाने के लिए मालगाड़ी को बीच रास्ते में बिना रोके चला रहा है। शुक्रवार की रात में कोयला की 16 मालगाड़ी को पंजाब की ओर भेजा गया। इसके साथ ही कोयला की खाली मालगाड़ी को वापस भेजने का काम लगातार किया जा रहा है। जिस कारण ट्रेनों को बीच रास्ते में रोका जा रहा है। इसके अलावा कानपुर मार्ग पर मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण शुक्रवार की रात में कानपुर मार्ग की आठ ट्रेनों को मुरादाबाद होकर विभिन्न स्थानों के लिए चलाया गया।

मुरादाबाद स्टेशन में चार रेल मार्ग से ट्रेनें व मालगाड़ी आने जाने के कारण रेल मार्ग जाम हो गया था। जिससे कटघर यार्ड में कई ट्रेनों को घंटों रोके रखा गया। इस कारण नियमित ट्रेनों का संचालन प्रभावित हुआ। बरेली से मुरादाबाद आने में ट्रेनों को अधिकतम डेढ़ घंटे समय है, जबकि रात में ट्रेनें तीन से चार घंटे में मुरादाबाद पहुंच रही थीं। एसी एक्सप्रेस समेत कई ट्रेनें रात तीन बजे के बजाय सुबह छह बजे मुरादाबाद पहुंचीं। इससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। पूजा स्पेशल की संख्या बढ़ने से शनिवार दोपहर में ट्रेनों का संचालन बाधित रहा। मुरादाबाद स्टेशन का प्लेटफार्म खाली नहीं होने से कई ट्रेनों को कटघर यार्ड में रोका गया।

Edited By: Jagran