मुरादाबाद : आज रसोई गैस का सिलेंडर हर घर की जरूरत बन चुका है। इसके बिना घर में लोगों को एक कप चाय तक नसीब नहीं हो पाती लेकिन, यही सिलेंडर छोटी सी लापरवाही के कारण बम बन सकता है। गत सोमवार को मऊ में आग लगने के बाद गैस सिलेंडर बम की तरह फट गया। इसमें 13 लोगों की जान चली गई और 24 घायल हो गए। ऐसी घटनाओं से बचने के लिए गैस सिलेंडर कंपनी की ओर से नियम और मानक बनाए गए हैं। समय-समय पर शिविर लगाकर लोगों को जागरूक किया जाता है। तकनीकी कर्मचारी घर जाकर गैस चूल्हे और रबर की जांच करते हैं लेकिन, कुछ लोगों की अनदेखी से रसोई गैस सिलेंडर हादसे का कारण बन जाता है। 

बचाव के लिए ये करें उपाय

- बीआईएस प्रमाणित रेग्युलेटर और सुरक्षा रबर ट्यूब का प्रयोग करें 

- सिलेंडर लेते समय हॉकर से सिलेंडर की जांच करा ले

- प्रत्येक दो साल में गैस चूल्हे का परीक्षण कराएं 

- पांच साल में रबर ट्यूब को बदल दें 

- कंपनी द्वारा नामित तकनीकी कर्मी से परीक्षण कराएं  

- खाना बनाते समय रसोई की खिड़की को खुला रखें 

- रात में सोने पर रेग्युलेटर व चूल्हे की नॉब को बंद कर दें

- घर से बाहर जाने पर रेग्युलेटर को सिलेंडर से निकाल दें और सुरक्षा कैप लगा दें

- सिलेंडर को हमेशा नीचे और चूल्हे को ऊपर रखें 

- रसोई घर में मिïट्टी का तेल और ज्वलनशील पदार्थ नहीं रखे। 

- सूती कपड़े पहनकर खाना बनाएं 

- कभी बर्तन को चालू बर्नर के ऊपर ऐसे ही न छोड़ें  

- रसोई घर के अंदर फ्रिज न रखें 

लीकेज पर घबराएं नहीं, ये करें 

- गैस लीक होने पर बिजली के स्वीच को ऑफ आन न करें 

- गैस की गंध आने पर रेग्युलेटर को ऑफ कर दें और साबुन के झाग से गैस लीक होने वाले स्थानों की जांच करें

- घर के खिड़की दरवाजे को खोल दें 

- सभी सदस्य घर से बाहर निकल जाएं 

- रेग्युलेटर को बंद कर सिलेंडर से बाहर निकल दें

- सिलेंडर को निकाला जा सकता है तो घर से बाहर कर दें 

- सिलेंडर को ठंडे स्थान पर रखें 

नियम के पालन पर मिलेगा 50 लाख का मुआवजा 

रसोई गैस का प्रयोग हमेशा नियमों का पालन करते हुए करें। ऐसा करते हैं तो दुर्घटना होने पर कंपनी 10 से 50 लाख रुपये का मुआवजा देती है। नियम का पालन नहीं करने पर कंपनी कोई मुआवजा राशि नहीं देती है। 

आग लगने पर यहां करे काल 

- अग्नि शमक विभाग :- 101 

- गैस एजेंसी के नंबर पर 

- पुलिस कंट्रोल रूम:- 100 

- टोल फ्री नंबर 18002333555

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप