जागरण संवाददाता, रामपुर। Azam Khan News : शहर विधायक आजम खां के खिलाफ मंगलवार को किसी मुकदमे में सुनवाई नहीं हो सकी। सुनवाई के लिए आजम खां समेत अन्य आरोपित कोर्ट में पेश हुए थे, लेकिन न्यायाधीश के अवकाश थे। इस पर आरोपित कोर्ट में हाजिरी लगाकर चले गए। कोर्ट ने सुनवाई के लिए अगली तारीख नियत कर दी है।

कोर्ट में हाजिरी लगाने के बाद मीडिया से बातचीत में आजम खांं ने कहा कि भाजपा के राज में केवल विपक्ष के लोगों पर ही मुकदमे दर्ज कराए जा रहे हैं। कुछ मुकदमे सरकारी पक्ष के उन लोगों पर भी दर्ज होने चाहिए, जो कानून तोड़ रहे हैं। हमारे परिवार के खिलाफ तो बड़े पैमाने पर मुकदमे दर्ज कराए गए हैं। हमारे समर्थकों पर भी मुकदमे लिखे गए हैं। 

आजम खां के खिलाफ एक दिन में 14 मुकदमे सुनवाई के लिए लगे थे। इनमें पांच शहर कोतवाली में दर्ज यतीमखाना प्रकरण के थे। इन मुकदमों में आरोप है कि आजम खां ने यतीमखाना बस्ती के लोगों के घरों को तुड़वा दिया था। इस दौरान सपाइयों और पुलिस कर्मियों ने उनके साथ मारपीट और लूटपाट की थी। बकरी और भैंस चोरी जैसे आरोप भी लगाए गए थे।

इसके अलावा गंज कोतवाली में दर्ज डूंगरपुर प्रकरण के आठ मुकदमे भी सुनवाई के लिए लगे थे। इनमें आरोप है कि सपाइयों और पुलिस कर्मियों ने आसरा आवास बनाने के नाम पर डूंगरपुर बस्ती के लोगों को बेघर कर दिया था। उनसे मारपीट और लूटपाट की थी। इन मुकदमों में पहले आजम खां का नाम नहीं था, लेकिन विवेचना के दौरान उनका नाम शामिल किया गया था। सभी मुकदमों की सुनवाई एमपी-एमएलए स्पेशल कोर्ट (सेशन ट्रायल) में चल रही है।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता कमल कुमार गुप्ता ने बताया कि न्यायाधीश के अवकाश पर होने के चलते सुनवाई नहीं हो सकी। अब यतीमखाना प्रकरण के मामलों में आठ जुलाई को सुनवाई होगी, जबकि डूंगरपुर प्रकरण के मामलों में 12 जुलाई लगी है। इसके अलावा टांडा थाने में दर्ज एससीएसटी एक्ट का मुकदमा भी सुनवाई पर लगा था।

यह मुकदमा गवाही पर आ गया है। इस मामले में अदालत ने सुनवाई के लिए 15 जुलाई नियत की है। आजम खां के अधिवक्ता नासिर सुल्तान ने बताया कि सुनवाई के लिए विधायक समेत अन्य आरोपित कोर्ट में पेश हुए, लेकिन न्यायिक अधिकारी अवकाश पर होने के कारण सुनवाई नहीं हो सकी। आजम खां के मीडिया परभारी फसाहत अली खां शानू भी उपस्थित हुए।

Edited By: Samanvay Pandey