मुरादाबाद : प्याज व सब्जियों के बाद अब दाल भी किचन को बीमार करने लगी है। हालत यह है कि एक सप्ताह मेंं ही दाल के दाम आसमान छूने लगे हैं। दाम बीस से तीस रुपये किलो ग्राम तक बढ़ गए हैं। इसका खास असर उड़द की दाल पर हुआ है, जो एक सप्ताह में ही 110 से 120 रुपये तक बिक रही है। व्यापारियों का कहना है कि आवक घटने के कारण दाल के दामों में अचानक से इतनी बढ़ोत्तरी हुई है। 

प्याज के दाम से बिगड़ चुका है किचन का बजट 

प्याज के दाम आसमान छू रहे हैं। 80-90 रुपये किलो में प्याज बिक रहा है। इससे आम आदमी के किचन का बजट बिगड़ चुका है। इसी बीच दाल के दामों ने भी आसमान छूना शुरू कर दिया है। व्यापारियों का कहना है कि बारिश के कारण दाल की फसल काफी हद तक नष्ट हो गई है। इस कारण आवक प्रभावित हुई है और दाल के दाम अचानक से बढ़ गए हैं। 

उड़द की दाल पर हुआ असर 

आवक घटने का सबसे ज्यादा असर उड़द की दाल पर हुआ है। दाल व्यापारी अरविंद कुमार रस्तोगी के अनुसार हरी उड़द की दाल एक सप्ताह के अंदर बीस रुपये बढ़ गए हंै। काली उड़द 120 रुपये तक फुटकर में है। 

आवक नहीं बढ़ी तो अन्य पर पड़ेगा असर 

दाल व्यापारियों के मुताबिक अगर दालों की आवक जल्द नहीं बढ़ी तो आने वाले दिनों में अन्य दाल और भी महंगी हो सकती है। इससे सिर्फ उड़द ही नहीं अरहर, मंूग व अन्य दालों पर भी इसका असर पड़ सकता है। 

एक सप्ताह में बढ़े दाल के दाम

व्यापारी अरविंद कुमार रस्तोगी ने बताया कि पिछले एक सप्ताह में दाल के दाम बढ़े हैं। इसका कारण आवक में कमी होना है। अगर आवक ही नहीं होगी तो खपत के अनुरूप दाल नहीं मिलेगी, जिससे दाम बढ़ेंगे ही। 

अन्य दालों पर भी पड़ेगा असर 

व्यापारी संजीव कुमार बताते हैं कि अभी सिर्फ उड़द के दाम इतने बढ़े हैं, अरहर व अन्य दालों में इतना उतार चढ़ाव नहीं है। हालांकि, अगर यही स्थिति रही तो अन्य दालों पर भी असर दिखेगा। 

आम आदमी झेल रहा है महंगाई 

ग्राहक नूरीन चरन कहते हैं कि अभी तक प्याज और टमाटर ने ही रसोई की महंगाई बढ़ायी थी अब दाल भी महंगी हो गई है। सारा कुछ झेलना तो आम आदमी को ही है। 

मजबूरी पूरी कर रहे लोग 

ग्राहक जावित्री का कहना है कि सब्जी के बाद दाल पर महंगाई बढ़ती ही जा रही है और मजबूरी भी है सब्जी व दाल खरीदना। ऐसे में जेब को काट कर मजबूरियां पूरी की जा रही हैं। 

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप