मुरादाबाद,जेएनएन। कोरोना संक्रमण को लेकर लॉकडाउन से किसान पहले ही परेशान हो गए थे। उसके बाद आंधी और पानी से गेहूं की फसल भी बर्बाद हो गई थी। फसल के नुकसान का असर अब क्रय केंद्रों की खरीद पर पड़ा है। जनपद में बीते दो माह में 35 फीसद खरीद हुई है। शासन स्तर पर गेहूं खरीद के लिए 71 हजार मीट्रिक टन का लक्ष्य सौंपा गया था। लेकिन शासन से मिले इस लक्ष्य के अनुरूप 50 फीसद भी गेहूं की खरीद नहीं हो पाई है। अभी क्रय केंद्रों में 15 जून तक खरीद प्रक्रिया चालू रहेगी,लेकिन इन बीस दिनों में 65 फीसद लक्ष्य को पूरा करना अफसरों के लिए बड़ी चुनौती होगी। 15 अप्रैल से जनपद में गेहूं खरीद के लिए 83 क्रय केंद्र खोले गए। अप्रैल के बाद जब लक्ष्य को पूरा करने का दबाव अफसरों पर बढ़ा तो आठ क्रय केंद्र और खोल दिए गए थे। इन अतिरिक्त केंद्रों को खोलने के बाद भी जनपद में मात्र 35 फीसद ही गेहूं खरीद हुई है।

आठ एजेंसियों से खरीदा इतना गेहूं

नाम                 केंद्र संख्या          कुल खरीद

खाद्य विभाग        05                   3334 मी.

नैकाफ                04                  390 मी.

पीसीएफ             40                   4284.52 मी.

यूपीएग्रो              02                    814 मी.

यूपीएसएस          15                    4230 मी.

पीसीयू                10                    5849 मी.

एसएफसी            04                   736.86 मी.

नैफेड                 10                    5145.37 मी.

खाद्य निगम          01                   295.70 मी.

कुल खरीद           25079.95 मीट्रिक टन

गेहूं खरीद की प्रक्रिया लक्ष्य के अनुरूप नहीं हो पाई है। लेकिन सभी क्रय एजेंसी किसानों से सीधे संपर्क करके अधिक गेहूं खरीदने का प्रयास किया है। मौसम की वजह से भी खरीद केंद्रों में कम गेहूं आया है।

संजीव कुमार राय,डिप्टी आरएमओ

 

Posted By: Ravi Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस