रामपुर : खेतों में पराली जला रहे किसानों पर प्रशासन ने कड़ी कार्रवाई की। 11 किसानों को गिरफ्तार करके 31 के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। गिरफ्तार सभी किसान स्वार क्षेत्र के हैं, बाकी बिलासपुर, मिलक, शाहबाद और सदर तहसील के हैं। इन किसानों पर साढ़े तीन लाख रुपये जुर्माना भी डाला गया है। 

जुर्माना भी लगाया गया 

खेतों में पराली जलाने को लेकर सर्वोच्च न्यायालय एवं राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण सख्त हैैं। जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार ङ्क्षसह के आदेश पर स्वार तहसील क्षेत्र में पराली जला रहे 11 किसानों को गिरफ्तार किया गया। एसडीएम स्वार राकेश कुमार गुप्ता ने बताया कि इन सभी किसानों को 27,500 रुपये जुर्माना वसूलने के बाद छोड़ दिया गया। उधर, बिलासपुर के एसडीएम डॉ. राजेश कुमार ने 29 लेखपालों के खिलाफ प्रतिकूल प्रविष्टि और समस्त कानूनगो को चेतावनी नोटिस जारी किया है। 10 किसानों के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज कराई है। शहर कोतवाली में भी एक किसान के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की तैयारी है। बिलासपुर में 74 किसानों पर 3,18,500 रुपये का जुर्माना डाला गया है। 

जिला कृषि अधिकारी को दी गई है प्रतिकूल प्रविष्टि 

जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने बताया कि पराली जलाने के मामले में ढिलाई बरतने पर जिला कृषि अधिकारी जीसी सागर को प्रतिकूल प्रविष्टि दी गई है।  टांडा, मिलक और सदर के तहसीलदार को भी प्रतिकूल प्रविष्टि दी है, जबकि शाहबाद और बिलासपुर के तहसीलदार को चेतावनी दी गई है। कृषि विभाग के 11 तकनीकी सहायकों को भी प्रतिकूल प्रविष्टि दी है। मिलक के नवदिया के तकनीकी सहायक भूपेंद्र पाल ङ्क्षसह को निलंबित किया गया है। स्वार, बिलासपुर, शाहबाद, मिलक और सदर तहसील में 31 किसानों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। 

हटाए गए हैं कोतवाल व थाना प्रभारी 

पुलिस अधीक्षक डॉ.अजय पाल शर्मा ने कहा कि  किसानों को पराली जलाने से रोकने में नाकाम रहने पर बिलासपुर के कोतवाल माधो ङ्क्षसह बिष्ट, मिलक के थाना प्रभारी ब्रजेश कुमार यादव और मिलक खानम के सुभाष माबी को हटा दिया गया है। 

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप