जागरण संवाददाता, हलिया (मीरजापुर) : क्षेत्र के कस्बा सोनकर बस्ती निवासी विजय सोनकर का तीन वर्षीय पुत्र लखन की सोमवार की शाम फूड प्वाइजनिग से प्राथमिक स्वास्थ्य कें द्र में उपचार के दौरान मौत हो गई थी। स्वजन सहित बस्ती के लोग स्वास्थ्य केंद्र पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे।

मौके पर पहुंची पुलिस ने समझाने का प्रयास किया, लेकिन सभी उच्चाधिकारियों को बुलाने की मांग पर अड़े रहे। देर रात पहुंचे एसडीएम अमित कुमार शुक्ल मृत बालक के स्वजनों को समझाते हुए यथासंभव शासन से सहायता राशि दिलाने की बातकर शांत कराया।

मृत बालक के पिता ने एसडीएम को प्रार्थना पत्र देकर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए शिकायत की तथा पर्याप्त मात्रा में स्वास्थ्य केंद्र पर दवा उपलब्ध न होने से इलाज के समय दवाओं को बाहर से मंगाया जा रहा था। वही मृत बालक के पिता की तहरीर पर पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

देर रात में स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचे सीएमओ डा. पीडी गुप्ता से स्वजनों सहित ग्रामीणों ने बालक के इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। कहा कि स्वास्थ्य केंद्र पर पर्याप्त मात्रा में दवाएं भी उपलब्ध नहीं है न ही कोई विशेषज्ञ चिकित्सक है। ग्रामीणों ने शौचालय सहित वार्ड में गंदगी की शिकायत की। साथ ही सीएमओ ने फूड प्वाइजनिग के मरीजों के संबंध में स्वास्थ्य कर्मियों सहित ग्रामीणों से जानकारी ली। इस दौरान सांसद प्रतिनिधि विकास कुमार, ग्राम प्रधान शिवबाबू सेठ आदि लोगों ने भी स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए अगवत कराया। सीएमओ ने बताया कि स्वजनों सहित ग्रामीणों की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए मामले की जांच कराने के साथ ही दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

दूसरे दिन पहुंची बस्ती में

स्वास्थ्य विभाग की टीम

हलिया क्षेत्र के कस्बा स्थित सोनकर बस्ती में सोमवार की रात फूड प्वाइजनिग से बालक की मौत के बाद दूसरे दिन मंगलवार को सीएमओ डा.पीडी गुप्ता के निर्देश पर स्वास्थ्य टीम पहुंची। लालगंज प्रभारी चिकित्साधिकारी डा.संजय सिंह, डा.अशोक, डा.पंकज सीएचओ तीर्थराम, फार्मासिस्ट अभिषेक, सुशील की टीम ने सोनकर बस्ती में बीमार लोगों को दवा, गड्ढे में डालने के लिए ब्लीचिग पाउडर, क्लोरीन की गोली, मेट्रोजील सहित अन्य दवाओं का वितरण किया। साथ ही साफ सफाई, बासी खाना न खाने का निर्देश दिया। कुओं में ब्लीचिग पाउडर डालने के लिए संबंधित आशा कार्यकर्ताओं को निर्देशित किया। एडीओ पंचायत अरुण कुमार मिश्रा ने भी सफाई कर्मियों को बस्ती में साफ सफाई के साथ ब्लीचिग पाउडर आदि का छिडकाव कराया। 20 सितंबर को तेरही का भोजन

करने से हुए थे बीमार

20 सितंबर को एक व्यक्ति के यहां तेरही कार्यक्रम में भोजन करने के बाद बस्ती के लोगों की हालत बिगड़ गई थी। इस पर सभी को उपचार के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हलिया में भर्ती कराया गया था। बस्ती के लगभग 58 लोग फूड प्वाइजनिग से अब तक बीमार हो चुके हैं।

Edited By: Jagran