जागरण संवाददाता, पटेहरा (मीरजापुर) : स्थानीय विकास खंड क्षेत्र के ग्राम पंचायत लालापुर अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय देवरी उर्फ नकटी है। जहां स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत ढेर सारी सुविधाएं विद्यालयों के साथ साफ-सफाई, शौचालय स्वच्छता और फर्श तथा बाउंड्रीवाल पर सरकार पानी की तरह रुपया बहा रही है लेकिन धरातल पर विभागीय लापरवाही का खामियाजा मासूम बच्चे भुगतने को विवश है। खुले में लघुशंका व शौच करने के लिए स्कूल के बच्चे जा रहे है इसका किसी को ध्यान नहीं है। वही सफाई कर्मी भी मनमाना रवैया अपना रखे है कभी विद्यालय में सफाई करने के लिए जाते ही नहीं है। जबकि इस संबंध में स्कूल अध्यापक द्वारा विभाग को अवगत भी कराया गया लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय देवरी उर्फ नकटी में एक ध्वस्त शौचालय है जिसके मुहाने पर एक झरबैल का विशाल पेड़ खड़ा है। इसके अलावा कोई भी अतिरिक्त शौचालय नहीं है। विद्यालय भवन के पीछे बच्चे पेशाब करते है वहां भी झाड़ झंखाड़ से समूची दीवार घिरी है तथा विद्यालय के सामने बाउंड्रीवाल के अंदर मुहाने पर भी खरपतवार उगे हुए है। विद्यालय के अंदर सभी कमरों के फर्श टूटे है। जहां मासूम बच्चे बैठकर शिक्षा ग्रहण करते है। इस दौरान सहायक प्रभारी अध्यापक सुजीत कुमार दुबे ने बताया कि विद्यालय में कुल 80 बच्चे है जहां एक शिक्षामित्र और एक प्रभारी के पद पर स्वयं मैं हूं। सफाई के मामले में बताया गया कि सफाई कर्मी कभी नहीं आते है यदि कभी कभार दिखे तो हाय हल्लो दूर से कर चले जाते है। बच्चे इसी झाड़ झंखाड़ में पेशाब करते है फर्श और अन्य सभी समस्या से खंड शिक्षा अधिकारी मड़िहान को अवगत करा दिया है। इस संबंध में सहायक विकास अधिकारी पंचायत प्रदीप कुमार सिंह ने बताया कि जांच होगी और दोषी को दंडित किया जायेगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस