मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, मीरजापुर : सावन के मौसम में बारिश न होने से मायूस किसानों को शनिवार को कुछ राहत मिली। जिले में दोपहर बाद अचानक मौसम ने करवट ली और काले बादल छा गए लेकिन बारिश जमकर नहीं हुई। नगर क्षेत्र में हल्की फुहारें पड़ी तों जमालपुर, चुनार रेंज में ठीकठाक बारिश हुई। जबकि अन्य क्षेत्रों में भी कम बारिश ने किसानों को निराश कर दिया।

किसानों का कहना है कि बारिश न होने की वजह से धान की फसल चौपट होने का खतरा बढ़ गया है क्योंकि अब तक लगातार बारिश नहीं हुई और बरसात के कुछ ही देर बाद सड़कों पर धूल उड़ने लगती है। नगर के बरिया घाट पर शनिवार को बाढ़ देखने वालों की भीड़ जुटी लेकिन बहाव कम होने की वजह से लोगों को निराशा हाथ लगी। एडीएम यूपी सिंह ने बताया कि सामान्य से कम वर्षा हो रही है और इससे फसलों पर होने वाले नुकसान का भी आंकलन किया जा रहा है।

45 मिनट तक हुई बारिश

जासं, जमालपुर : क्षेत्र में एक सप्ताह बाद हुई बरसात से लोगों को गर्मी और उमस से राहत मिल गई। शनिवार को करीब 45 मिनट तक हुई झमाझम बरसात से किसानों के चेहरे खुशी से खिल उठे। बरसात से खेत पानी से भर गए। पानी के अभाव मे पीले हो रही धान की फसल को संजीवनी मिल गई।

दहलन-तिलहन को भी राहत

जासं, पटेहरा : ब्लाक क्षेत्र में दस दिन से बरसात नहीं होने से जिस खेत में धान की रोपाई और तिलहन व दलहन की खेती की गई थी सभी फसल मुरझा रही थी। सबसे खराब स्थिति रोपित धान की थी जो मुरझा रहे थे और अधिकांश किसान धान रोपने के लिए पानी की व्यवस्था नहीं कर पा रहे थे। शनिवार को हुई बारिश से आंशिक क्षेत्र में बरसात संजीवनी साबित हुई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप