जासं, अहरौरा (मीरजापुर) : पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही बारिश के कारण जरगो जलाशय का जलस्तर बढ़कर 316.1 फीट पर पहुंच गया है। बाढ़ की संभावना को देखते हुए डैम के कंट्रोल रूम से सोमवार की शाम साढ़े आठ बजे उच्चाधिकारियों को सूचित कर दिया गया कि जलस्तर में पानी का बढ़ाव काफी तेज है। दो फीट और पानी बढ़ने पर जलाशय के गेट खोल दिए जाएंगे। इससे जरगो से सटे दर्जनों गांव प्रभावित हो जाएंगे। मंगलवार की दोपहर जेई त्रिपुरारी श्रीवास्तव जलाशय में बढ़ते जलस्तर का जायजा लिया। इस दौरान जेई ने सुलूस में उतरकर सीपेज की स्थिति भी देखी। 320 फीट की क्षमता वाले जरगो जलाशय में मंगलवार की दोपहर तक जलस्तर 316.1 दर्ज किया गया। जबकि 318 फीट पर ही जलाशय के गेट खोल दिए जाते हैं। जलाशय के तटीय गांवों में बढ़ी चिता

जलाशय में लगातार बढ़ता जलस्तर एक ओर किसानों के लिए अच्छी खबर है। वहीं शुरुआत से ही जलाशय में पानी का तेजी के साथ बढ़ना क्षेत्रीय लोगों के लिए चिता का विषय बना हुआ है। जरगो जलाशय के किनारे बसे लोगों का कहना है कि जरगो जलाशय में इस वर्ष समय से पहले ही पानी काफी मात्रा में भर गया है। इससे किसानों को सिचाई के लिए पानी की किल्लत नहीं होगी लेकिन अगर यही हाल रहा तो बाढ़ के भी खतरे से बचा नहीं जा सकता। बाढ़ की संभावना, कब बनेगी चौकी

क्षेत्र में लगातार हो रही अच्छी बारिश के बाद भी जलाशय से प्रभावित होने वाले गांवों के किनारे अभीतक बाढ़ चौकी नहीं बनाई जा सकी है। जरगो जलाशय दो फीट से कम ही अब खाली बचा है। महज कुछ दिनों में ही हालात बिगड़ने की संभावना भी जताई जा रही है लेकिन प्रशासन आंखे मूंदे बैठा है। वर्जन

मंगलवार को 50 मिलीमीटर बारिश दर्ज किया गया है। अगर बारिश की स्थिति यही रही तो महज चार-पांच दिनों में ही बांध भर जाएगा और गेट खोलकर पानी डिस्चार्ज किया जाएगा। प्रशासन और उच्चाधिकारियों को सूचित कर दिया गया है।

-त्रिपुरारी श्रीवास्तव, जेई, जरगो जलाशय

Posted By: Jagran

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस