जागरण संवाददाता, मीरजापुर : क्रय केंद्रों पर बिचौलिए और साहूकार धान की बिक्री नहीं कर पाएंगे और किसी तरह बिक्री कर भी लिया तो अब भुगतान नहीं हो पाएगा। खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में खरीदे गए धान का भुगतान किसानों को अब केवल कोर बैंकिग सुविधा युक्त (पीएफएमएस) पोर्टल के माध्यम से ही होगा। इसके लिए अपर आयुक्त खाद्य सुनील कुमार वर्मा द्वारा दिशा निर्देश जारी किया गया है। पात्र किसानों को लाभ देने के साथ ही सरकार की योजनाओं का लाभ लेने वाले बिचौलियों पर अंकुश लग सकेगा।

जनपद में धान खरीद आगामी एक नवंबर से शुरू होकर 29 फरवरी 2020 तक चलेगी। डीएम अनुराग पटेल द्वारा किसानों से धान खरीद के लिए वर्तमान समय में 122 क्रय केंद्र बनाए गए है। जिसमें खाद्य विभाग का 12, पंजीकृत उप साधन सहकारी समिति 20, एफपीसी 15 सहित 47 क्रय केंद्र, पीसीएफ 38, यूपी एग्रो तीन, पीसीयू 6, नैफेड 12, कल्याण निगम 4, भारतीय खाद्य निगम एक और एनसीसीएफ के 11 सहित 122 क्रय केंद्रों पर खरीद चल रही है। शासन द्वारा निर्धारित लक्ष्य दो लाख 60 हजार एमटी के सापेक्ष एक लाख 73 हजार खरीद हो चुकी है, जो निर्धारित लक्ष्य का 67 प्रतिशत है। भुगतान के बाद धान खरीद का आंकड़ा एमआईएस पीएफएमएस पोर्टल पर अपलोड करना होगा।

-------

वर्जन

खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में किसानों से खरीदे गए धान का भुगतान केवल पीएफएमएस से होगा। इसके लिए एनआईसी द्वारा तैयारी की जा रही है। सभी खरीद एजेंसियां व क्रय केंद्र प्रभारी किसानों के खाते में केवल पीएफएमएस से भुगतान करें।

- केके सिंह, संभागीय खाद्य नियंत्रक, विध्याचल मंडल।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस