मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, मीरजापुर : लोकसभा चुनाव के दौरान नक्सल क्षेत्रों में होने वाले मतदान की निगहबानी हेलीकाफ्टर से की जाएगी। डीएम और पुलिस अधीक्षक अर्धसैनिक बल के साथ 109 क्रिटिकल मतदान स्थालों का निरीक्षण कर सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी लेंगे। इसके साथ ही पुलिस ड्रोन कैमरे से भी बूथों पर निगाह रखने का काम करेगी। साथ ही मतदान में किसी प्रकार की कोई गड़बड़ी न फैला सके इसका भी ध्यान रखते हुए गोपनीय विभाग से समय- समय पर वहां की स्थिति की रिपोर्ट देने को कहा गया है।

लोकसभा चुनाव को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने के लिए पुलिस विभाग की ओर से सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। नक्सल क्षेत्र के चुनार, अहरौरा, मड़िहान एवं हलिया, लालगंज में पुलिस ने जमीन से सुरक्षा करने के साथ-साथ आसमान से भी मतदान स्थलों पर निगाह रखने की योजना बनाई है। इसके लिए चुनाव आयोग से दो हेलीकाफ्टर और करीब 30 ड्रोन कैमरे की मांग की गई है। हालांकि चुनाव आयोग ने दो हेलीकाफटर देने में असमर्थता जताते हुए एक हेलीकाफ्टर देने का आश्वासन दिया है। पुलिस ने बताया कि जनपद में कुल 2080 बूथ है। इसमें पूरे जिले में 66 बन्नरेबल केंद्र है जबकि 129 मतदेय स्थल है। वहीं 109 क्रिटिकल केंद्र व 152 मतदेय स्थल है। इन सभी मतदान स्थलों पर पुलिस व पीएसी के अलावा अर्धसैनिक बल भी तैनात किए जाएंगे। नक्सल क्षेत्र में क्रिटिकटल बूथ होने के कारण यहां पर किसी प्रकार की गड़बड़ी नहीं हो इसलिए सतर्कता अधिक बरती जा रही है। गोपनीय विभाग को भी सूचना इकट्ठा करने के लिए लगाया गया है। कोई गंभीर सूचना आती है तो उसपर और कदम भी उठाए जाएंगे। ---------वर्जन

नक्सल क्षेत्रों में होने वाले मतदान स्थलों की निगरानी के लिए चुनाव आयोग से एक हेलीकाफ्टर व कुछ ड्रोन कैमरे की मांग की गई है। ताकि किसी प्रकार की कोई घटना होने पर वहां तुरंत पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया जा सके।

अमित कुमार, पुलिस अधीक्षक मीरजापुर।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप