जागरण संवाददाता, मीरजापुर : पथरहिया स्थित विकास भवन में जनपद स्तरीय रबी उत्पादकता गोष्ठी व किसान गोष्ठी का आयोजन बुधवार को किया गया। जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल किसानों की समस्याओं से सीधे रूबरू हुए। मनमानी तरीके से बिजली विभाग द्वारा भेजे गए बिल से परेशान किसान ने जिलाधिकारी से गुहार लगाई। कहा कि चेकिग के नाम पर विभाग द्वारा किसानों को परेशान किया जाता है। जिलाधिकारी ने एक्सईएन को किसान की समस्या का तत्काल निस्तारण करने का निर्देश दिया। डीएम ने कहा कि किसान अन्नदाता हैं और पर्यावरण को स्वच्छ रखने में सहयोग करें। किसान खेतों में पराली न जलाए। इस दौरान नौ अधिकारियों के अनुपस्थित रहने पर डीएम ने स्पष्टीकरण मांगा।

उप कृषि निदेशक डा. अशोक उपाध्याय ने बताया कि जिन पंजीकृत किसानों को पीएम किसान योजना के तहत दो हजार रूपये की किश्त अब तक नहीं मिला है, उन्हें अपने विवरण को संशोधित कराना होगा। किसान वेबसाइट पीएम किसान.जीओवी.इन पर जाकर स्वयं मोबाइल, कामन सर्विस सेंटर (सीएससी) या सहज जन सेवा केन्द्र पर जाकर निर्धारित शुल्क देकर आनलाइन संशोधन करा सकते है। किसानों ने क्रय केंद्र की सूची उपलब्ध कराने की मांग की। सहकारी समितियों के क्रय केंद्रों से धान खरीद कराने की मांग। बैठक में पीडी ऋषिमुनि उपाध्याय, डीडीओ अजितेंद्र नारायण, एक्सईएन मनोज यादव, जिला कृषि अधिकारी पवन प्रजापति, डीआरएमओ अजीत कुमार त्रिपाठी, डीपीआरओ अरविद कुमार आदि मौजूद रहे।

-----

सहायकों को किसान दिवस से किया बाहर

किसान दिवस में किसानों ने सिचाई, बिजली आपूर्ति, खाद, उर्वरक आदि उपलब्ध कराने की मांग की। इस दौरान प्रभागीय वनाधिकारी, सचिव मंडी समिति, अधीशासी अभियंता विद्युत द्वितीय खंड, चुनार खंड, अधिशासी अभियंता सिचाई चुनार, नलकूप, लघु डाल प्रखंड, मूसा खंड नरायनपुर, जल संसाधन विभाग अनुपस्थित रहे। इनके सहायकों को बैठक से बाहर कर दिया। कहा कि किसी भी कारण से बैठक में अधिकारी शामिल नहीं हो रहे है तो संबंधित अधिकारी उनको या उप कृषि अधिकारी को जानकारी दे दें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस