जागरण संवाददाता, मीरजापुर : 24 घंटे से हो रही मूसलधार बारिश से पटेहरा विकास खंड का शिवसागर बांध व मलुआ बंधी टूटने से गुरुवार को क्षेत्र में भारी तबाही मच गई है। सैकड़ों घरों में पानी भर गया है। दर्जनों मकान बैठ गए। इससे भारी क्षति हुई। पहाड़ी नदियों में उफान आने से कोई पेड़ तो कोई क्षत पर चढ़ कर जान बचाने की कोशिश कर रहा है। लालगंज-कलवारी मार्ग के कई जगह बह जाने से पटेहरा व कई गांवों का जिला मुख्यालय से संपर्क भंग हो गया है। पटेहरा क्षेत्र में लगातार दो दिनों से रिकार्ड तोड़ बरसात हो रही है। बुधवार को 160 मिमी व गुरुवार को 175 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई। सबसे ज्यादा तबाही इसी इलाके में हुई। रैकल गांव के पिपरहां मौजा में दो मकान गिरने से परिवार के लोग आसमां के नीचे आ गए हैं।

इस गांव में पांच फीट पानी बह रहा है। पटेहरा कला के बहरछठ टोला बांध की पुलिया टूट गई है। इससे बस्ती में पानी घुस गया। इससे बुद्धिराम, प्रकाश, जयप्रकाश, सत्यप्रकाश का मकान बैठ गया। घर में रखा सारा अनाज व भूसा बर्बाद हो गया। घर में रखी हस्ती की सैकड़ों पाइप पानी की धारा में बह गई। यदि बचाव कार्य शुरू नहीं हुआ तो घर व खपरैल के मकान भी गिर सकते हैं।

प्रकाश ने एक हेक्टेयर में आम का बगीचा लगाया था वह भी बाढ़ में बह

गया । गांव का संपर्क भंग हो गया है। डीएम बिमल कुमार दुबे व एसपी आशीष तिवारी राहत कार्य में जुटे थे। घरों में घुसा पानी छत ही सहारा:पटेहरा क्षेत्र के देवरी उत्तर गांव में बाढ़ का पानी घरों में घुस गया है। सैकड़ों ग्रामीणों ने छत का सहारा ले लिया है। जिसके पास क्षत नहीं है उनके लिए रहना खाना पीना दुश्वार हो गया है। गढ़वा, शेरूवां, कुसुम्हा गोपालपुर व गोपालपुर गांव भी पहाड़ी नदी बकहर के चपेट में आ गए हैं। ककरद, मझारी, लालपुर, कचरिया, अमोई पुरवा, रैकल, संतनगर, देवरी कटाई, खण्डवर, पथरौर आदि ग्रामों में पानी घर में घुस गया है। मझारी में रामदुलार पटेल, अमर नाथ पटेल व बुद्धिराम चौहान तथा ककरद में सुदामा गिरी का मकान पानी में डूब गया है। घरों में

मिट्टी की बखारी में रखा गेंहू फूलने से बखारी फट गई पूरा अनाज पानी में बह गया। लालपुर में हिन्छलाल कोल की भी भारी क्षति हुई है । किसान संतोष तिवारी, राजीव ¨सह, जमोहर ¨सह, अनिल ¨सह, रामचन्द्र शुक्ला ने जिलाधिकारी से क्षति का आंकलन कर राहत दिलाने की मांग की है। - पटेहरा का मुख्यालय से कटा संपर्क:लालगंज-कलवारी मुख्य मार्ग कई जगह बह गया है इससे जनपद जाने का मार्ग बंद हो गया है । कई घर गिर गए हैं। क्षेत्र के ददरी मार्ग, लालगंज - कलवारी मार्ग, संत नगर - कलवारी

लालगंज मार्ग बंद हैं । अपर खजुरी के छलका के ऊपर से पानी चलने से आवागमन ठप हो गया है। रामपुर रिक्शा गांव का पुल बहने से गणेश मंदिर का मार्ग बंद हो गया है। लालपुर-ककरद मार्ग टूटने आवागमन बंद हो गया है। कई वाहन चालक भोर से ही चक्कर काट रहे हैं। उनको लालगंज, पटेहरा या मि•रापुर जाने के लिए कोई रास्ता नहीं दिख रहा।

मौके पर नहीं पहुंच पाए अधिकारी : पटेहरा क्षेत्र में हो रही भारी तबाही का निरीक्षण करने गए एडीएम विजय बहादुर ¨सह, एसडीएम मड़िहान सविता यादव, ब्लाक प्रमुख दिनेश प्रताप ¨सह टूट गए शिव सागर बांध तक नहीं पहुंच पाए। सड़कों के क्षतिग्रस्त होने से दर्जनों गांवों का संपर्क भंग हो गया है। अधिकारियों ने खंडवर मझारी, पथरौर, दीपनगर में निरीक्षण किया। अधिकारियों ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि शीघ्र उनको आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाएगी।

कुसियरा नदी में उफान, पेड़ों पर गुजारी रात : लालगंज: क्षेत्र में हो रही मुसलधार बरसात से नदियों व नालों में बाढ आ गई है। कुसियरा नदी में आई बाढ़ से लेहड़िया व पटखौली गांव में कई लोगों ने पेड़ पर चढ़ कर रात गुजारी। लोग गुरुवार को भी पेड़ पर फंसे हुए हैं इन लोगों को तत्काल राहत की जरूरत है लेकिन राहत दूर दूर तक नजर नहीं आ रही है। मौके तक अधिकारी नहीं पहुंच पा रहे हैं। ऐसे लोगों को नाव के सहारे ही निकाला जा सकता है। इस गांव का मेवा नामक बृद्ध पेड़ पर चढ़ कर रात गुजारी। गांव के कई लोग घर से बाहर पाही पर रहते हैं इन लोगों को पेड़ ही सहारा बना हुआ है। बामी गांव में पुलिया का पानी सरहंग द्वारा बंद कर देने से इरफान खां, असरफुल खां, आजाद खां, बल्ली खां, कल्लू खां आदि दर्जन भर लोगों का कच्चा मकान गिर गया है। इससे भारी नुकसान हुआ है।

छानबे में कर्णावती का कहर :

जिगना/श्रीनिवासधाम : एक रात की बरसात में कर्णावती नदी की बाढ़ ने तबाही मचा रखा है। कर्णावती नदी का पानी कुशहा में पुल के ऊपर से बह रहा है। बाढ़ से भटेवरा, बिजयपुर, कठवइया, बौडई, कुशहां में बने पुलों पर पानी भर जाने से आवागमन अवरुद्ध हो गया है। तटवर्ती गांव बिजयपुर, डेरवा, पियरी भिट, बौड़ई, बघेड़ा खुर्द, बनवारीपुर,बरबटा, कामापुर,सदलुपुर, बुढियापुर आदि गावों का सम्पर्क टूट गया है। गाव के बस्ती तक पानी पहुंच गया है। क्षेत्र के राजमनि बघौरा, सुमतिया बजटा चेहरा, आदि गांवों में सडक काट कर ग्रामीणों पानी निकाला।

Edited By: Jagran