मेरठ,जेएनएन। उत्तर प्रदेश पिछड़ा वर्ग कल्याण द्वारा पिछड़े वर्ग के बेरोजगार युवक व युवतियों को रोजगार के काबिल बनाने के लिए योजना शुरू की गई है। योजना के तहत ऐसे युवाओं को कंप्यूटर का निश्शुल्क ज्ञान दिया जाएगा। इसके लिए आवेदक 10 अगस्त तक आवेदन कर सकते हैं।

मुख्य विकास अधिकारी शशांक चौधरी ने बताया कि पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग ने प्रतिभावान युवाओं को आगे बढ़ाने के लिए कई तरह की योजनाएं शुरू की हुई है। जिसमें युवाओं को कंप्यूटर का ज्ञान देने के लिए ओ लेवल व सीसीसी कंप्यूटर प्रशिक्षण योजना शुरू की गई है। योजना के तहत अन्य पिछड़े वर्ग के इंटरमीडिएट न्यूनतम शैक्षिक अर्हता युवक व युवतियों को प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए विभागीय वेबसाइट ढ्डड्डष्द्म2ड्डह्मस्त्र2द्गद्यद्घड्डह्मद्ग.ह्वश्च.ठ्ठद्बष्.द्बठ्ठ एवं श्रढ्डष्ष्श्रद्वश्चह्वह्लद्गह्मह्लह्मड्डद्बठ्ठद्बठ्ठद्द.ह्वश्चह्यस्त्रष्.द्दश्र1.द्बठ्ठ पर आनलाइन आवेदन 10 अगस्त तक करना होगा। इसके लिए सभी नियमों को भी पूरा करना होगा। आवेदन के बाद जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी को गलत आवेदनों को निरस्त करने का पूर्ण अधिकार होगा।

लीवर हेल्थ डिजीज विषय पर किया विस्तार से मंथन: आइआइएमटी आयुर्वेदिक चिकित्सालय में निश्शुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। जिसका शुभारंभ प्राचार्य डा. राकेश पंवार ने किया। शिविर का आयोजन चरक फार्मा प्रा. लि. के सौजन्य से लीवर हेल्थ डिजीज विषय पर किया गया। इस मौके पर लीवर हेल्थ डिजीज पर विस्तार से चर्चा की गई।

डिप्टी मेडिकल सुप्रीटेंडेंट डा. एसके तंवर ने बताया कि बदलते परिवेश में शुद्ध जल व भोजन का ही सेवन करना चाहिए। नशीले पदार्थ, प्रदूषित जल व भोजन, बिना चिकित्सक की सलाह के दवाओं का सेवन यह सब लीवर को नुकसान पहुंचाता है। शिविर में कुल 136 रोगी देखे गए। शिविर में डा. सुदीप कुमार, शेखर, अंजू, आत्मा पांडेय, सौरभ, अमरपाल, कंचन, सचिन, दया प्रकाश, अनिल, मुकुल व पंकज भारती आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran