Move to Jagran APP

UP Governor Anandiben Patel: दीक्षा समारोह में राज्यपाल ने बेटियों को दिए पदक, क्या रही उनके भाषण की प्रमुख बातें, पढ़िए यहां

UP Governor Anandiben Patel मेरठ में सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवम प्रद्योगिकी विश्वविद्यालय के 16वे दीक्षा समारोह में मेधावियों को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने पदक प्रदान किए। राज्यपाल ने कहा देश में अस्पतालों का बढ़ना अच्छी बात नहीं है शिक्षण संस्थान बढ़ाने की जरूरत है जिससे बीमारियों के कारणों का पता लगाकर उनको खत्म करने की दिशा में कार्य किया जा सके।

By Jagran News Edited By: Abhishek Saxena Published: Wed, 21 Feb 2024 03:26 PM (IST)Updated: Wed, 21 Feb 2024 03:26 PM (IST)
UP Governor Anandiben Patel: दीक्षा समारोह में राज्यपाल ने बेटियों को दिए पदक, क्या रही उनके भाषण की प्रमुख बातें, पढ़िए यहां
सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवम प्रद्योगिकी विश्वविद्यालय के 16वे दीक्षा समारोह में मेधावियों को प्रदान किया पदक

जागरण संवाददाता, मेरठ। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने बुधवार को सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवम प्रद्योगिकी विश्वविद्यालय के 16वे दीक्षा समारोह में कहा कि वसुधैव कुटुंबकम् के लक्ष्य को पूरा करने के लिए भारतवर्ष को भी कृषि उत्पादन बढ़ाना होगा।

loksabha election banner

जी20 में नए सदस्य के तौर पर भारत ने दक्षिण अफ्रीका को भी जोड़कर एक विश्व का संदेश दिया है। इस संदेश के साथ ही बढ़ती वैश्विक जनसंख्या की खाद्य जरूरतों को पूरा करने में हर देश को कृषि उत्पादन बढ़ाने की जरूरत है। इसमें भी ऑर्गेनिक उत्पादन बढ़ाना होगा जिससे स्वास्थ्य को भी दुरुस्त रखा जा सके। इसलिए मिलेट उत्पादन बढ़ाकर इस पर रिसर्च कर उसके परिणाम से लोगो को अवगत कराने की जरूरत है।

युवाओं को निभानी होगी जिम्मेदारी

राज्यपाल ने कहा कि अगले 25 वर्ष युवाओं को बड़ी जिम्मेदारी निभानी होगी जिसमें उन्हें परिवार के साथ ही देश के विकास योगदान देना होगा। जो युवा पदक लेकर निकल रहे हैं उन्हें देश की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए किसी एक को पूरा करने पर जोर देना होगा। शोध और नवाचार के बाद उन्हें प्रचारित और प्रसारित करना होगा जिससे उनका लाभ हर नागरिक तक पहुंच सके।

ये भी पढ़ेंः Iqra Hasan: लंदन से पढ़ाई, पिता पूर्व सांसद-भाई विधायक, जानिए कैराना से सपा प्रत्याशी इकरा हसन के बारे में

राज्यपाल ने कहा कि नौ से 16 वर्ष तक की बालिकाओं को कैंसर जैसी बीमारी से बचाने के लिए विकसित एसपीजी वैक्सीन को सभी के लिए अनिवार्य किए जाने की जानकारी देते हुए बताया कि इसकी जानकारी पहले होती तो बहुत सी बेटियों को कैंसर से बचाया जा सकता था।

चरित्र निर्माण और देशप्रेम सिखाएं शिक्षण संस्थान

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दीक्षा समारोह में माता पिता और सास के साथ पहुंची पदकबीर बेटियों की सराहना करते हुए शिक्षण संस्थानों को युवाओं में चरित्र निर्माण और देशप्रेम की भावना विकसित करने पर जोर दिया। राज्यपाल ने कहा कि युवा जिस तरह बचपन में माता पिता की हर बांटते हैं उसी तरह जब बुढ़ापे।में माता पिता को जरूरत हो तब भी बातें माननी और सेवा करनी चाहिए।

ये भी पढ़ेंः Akhilesh Yadav: लोकसभा में कांग्रेस से गठबंधन पर अखिलेश यादव ने कही बड़ी बात, बस दो घंटे...स्वामी प्रसाद मौर्य पर किया किनारा

उद्योग घरानों से सीएसआर की मदद से व्यवस्थित करें आंगनबाड़ी

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालय पावली के बच्चों को उपहार भेंट किया। इसे साथ ही वह स्कूलों के लिए 200 किताबें और 300 आंगनबाड़ी के लिए 20,000 रुपए की सामग्री प्रदान किया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की आधी संपत्ति पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ही है। यहां बड़े उद्योग घराने हैं जो सीएसआर गतिविधियों का अंतर्गत करोड़ों रुपए मुहैया कराते हैं। ऐसे में समाज के लोगों को उद्योग घरानों से मिलकर आंगनबाड़ियों के लिए सामग्री लेनी चाहिए और जब लोग जाएंगे तो मदद भी मिलेगी।

किताबों से बाहर भी बढ़ाना होगा कौशल : प्रोफेसर तिवारी

दीक्षा समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी खरगपुर के निदेशक प्रोफेसर वीरेंद्र कुमार तिवारी ने कहा कि पदक पाने वाले मेधावियों के सामने कर्मभूमि है। वहां किताबों से बाहर भी विकसित कौशल की जरूरत पड़ेगी। जिस तरह सरदार वल्लभ भाई पटेल के कारण देश एक है, उसी तरह युवा दुनिया में ऐसा निशान छोड़ जाएं जिसे लोग सदा याद रखें।

देश के लिए सोचें और कार्य करें। केवल नौकरी से देश विकसित नहीं होगा। स्टार्ट अप शुरू करने होंगे। उन्होंने कहा की आईआईटी खड़गपुर दुनिया की पहली आईआईटी है जो व्यवस्थित तौर पर शुरू हुई। भारत में भी आईआईटी में जो कुछ भी पहली बार हुआ वह आईआईटी खड़गपुर हो हुआ।

कृषि में ड्रोन तकनीकी प्रशिक्षण तक पहुंच चुका है विश्वविद्यालय 

16 दीक्षा समारोह में कृषि विश्वविद्यालय की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए कुलपति डा. केके सिंह ने कहा कि अपने सफ़र में सफलताओं की सीढ़ी चढ़ते हुए कृषि विश्वविद्यालय वर्तमान में कृषि क्षेत्र में ड्रोन तकनीक के इस्तेमाल का प्रशिक्षण देने वाला केंद्र बन चुका है। इस वर्ष स्नातक के 370, परस्नातक के 89 और पीएचडी के 60 विद्यार्थियों को उपाधि प्रदान की गई।

19 मेधावियों को कुलाधिपति स्वर्ण पदक, कुलपति स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक मिले। पहली बार तीन मेधावियों को तीन प्रायोजित पदक भी प्रदान किए गए। शिक्षा शोध और प्रसार कार्य को गति प्रदान करने के लिए आठ राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय संस्थानों संग एमओयू हुए हैं। इनमें अमेरिका के इंडियाना स्थित पर्ड्यू यूनिवर्सिटी के साथ रिसर्च बढ़ाने के लिए बुधवार को दीक्षा समारोह में ही एमओयू पर हस्ताक्षर हुआ।

महिला उद्यमियों के देखी मेहनत और सराहा भी

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कृषि विज्ञान केंद्रों पर प्रशिक्षित महिला उद्यमियों के उत्पादों की प्रदर्शनी भी दिल्ली। इसके बाद उन्होंने महिलाओं से मुलाकात कर बातचीत भी की और उनके कार्यों की सराहना भी की। इस अवसर पर विधायक अतुल प्रधान ने पुलिस भर्ती शिक्षा का पेपर लीक होने पर परीक्षा दोबारा कराने संबंधी ज्ञापन भी सौंपा। इस अवसर पर महापौर हरिकांत अहलूवालिया, राज्यसभा सदस्य डा. लक्ष्मीकांत बाजपाई, जिला पंचायत अध्यक्ष गौरव चौधरी भी राज्यपाल से मिले पहुंचे।  


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.