सहारनपुर, जेएनएन। प्रदेश के कृषि एवं जिले के प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि सरकार ने चालू खरीद वर्ष में सहारनपुर जनपद में रिकार्ड गेहूं की खरीद की है। इसके साथ ही जनता को जागरूक कर टीकाकरण कराया जा रहा है ताकि लोगों को कोरोना महामारी की तीसरी लहर से बचाया जा सके। 

सर्किट हाउस में पत्रकारों से वार्ता करते हुए प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा सहारनपुर जनपद में 32 हजार 242 किसानों से 1,08,657.865 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई है। खरीदे गये गेहूं की लागत 215 करोड़ रूपए है। उन्होंने कहा कि 22 जून को जनपद में गेहूं खरीद बंद हो चुकी है। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों की तुलना में इस वर्ष रिकार्ड गेहूं की खरीद की गई है। कहा कि वर्ष 2016-17 में 12 हजार 337 किसानों से 33,418.466 मीट्रिक टन गेहूं खरीद कर 50 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया। इसी प्रकार वर्ष 2017-18 में 16 हजार 823 किसानों से 45,981.336 मीट्रिक टन गेहूं खरीद कर 75 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया।

वर्ष 2018-19 में 26 हजार 894 किसानों से 72,413.320 मीट्रिक टन गेहूं खरीद कर 126 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया। वर्ष 2019-20 में 17 हजार 725 किसानों से 50,356.258 मीट्रिक टन गेहूं खरीद कर 93 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया। वर्ष 2020-21 में 17 हजार 996 किसानों से 57,728.605 मीट्रिक टन गेहूं खरीद कर 115 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया। उन्होंने कहा चालू गेहूं क्रय वर्ष 2021-2022 में 32 हजार 242 किसानों से 1,08,657.865 मीट्रिक टन गेहूं खरीद कर 214.59 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया। प्रभारी मंत्री ने कहा कि विगत वर्षों के मुकाबले इस वर्ष सर्वाधिक गेहूं खरीद की गयी।

उन्होंने बताया कि गेहूं खरीद की कुल कीमत 214.59 करोड़ में से 200 करोड़ रूपए किसानों के खाते में पहुंच गया है। यानि लगभग 93 प्रतिशत गेहूं खरीद का भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि शेष गेहूं का भुगतान यथाशीध्र किसानों के सीधे खाते में पहुंचाये जाने के निर्देश दिये गये है। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार का पूरा ध्यान अब टीकाकरण पर है ताकि लोगों को कोरोना की तीसरी लहर से बचाया जा सके। इस दौरान सांसद प्रदीप चौधरी, विधायक देवेंद्र निम, चौधरी कीरत सिंह, पूर्व सासंद राघव लखनपाल, डीएम अखिलेश सिंह, भाजपा जिला अध्यक्ष डॉ महेंद्र सैनी, महानगर अध्यक्ष राकेश जैन आदि मौजूद रहे। 

Edited By: Himanshu Dwivedi