मेरठ, जेएनएन। गुरुद्वारा श्रीगुरु सिंह सभा थापरनगर में दो दिवसीय गुरुमत विचार समागम के दूसरे दिन रविवार को दोपहर व रात्रि में विशेष आयोजन किया गया। हजूरी रागी भाई प्रीतम सिंह, बाल कीर्तनी व अखंड कीर्तनी जत्थे ने गुरुबाणी के शबदों का कीर्तन कर अमृत वर्षा की। मुख्य ग्रंथी ज्ञानी चरनप्रीत सिंह ने अरदास संपन्न कराई। ग्रंथी भाई किशनपाल सिंह ने गुरुबाणी पाठ का उच्चारण कराया।

सिख धर्म के प्रसिद्ध इतिहासकार विचारक डा. सुखप्रीत सिंह ने ऐतिहासिक विचारों को सुनाते हुए कहा कि गुरु नानक देव जी ने प्रचार यात्राओं में जहां सज्जन नाम के ठग को अपने उपदेश से सज्जन सिख बनाया, तो वहीं जुल्मी शासक बाबर को जाबर कहकर ललकारा। गुरु गोबिद सिंह जी ने औरंगजेब जैसे मुगल शासक का मुकाबला किया और पत्र लिखकर कहा था कि जितना भी जुल्म कर हम हार नहीं मानने वाले। इसी तरह गुरु अरजन देव व गुरु हरिगोबिद जी ने भी जहांगीर का मुकाबला किया था। कार्यक्रम निष्काम सेवक जत्थे द्वारा आयोजित किया गया। सभा अध्यक्ष सरदार रणजीत सिंह नंदा ने सभी का आभार प्रकट किया व सरोपा भेंट कर सम्मानित किया। सभा उपाध्यक्ष रणजीत सिंह जस्सल ने श्रद्धापुष्प भेंट किए। उन्होंने बताया कि 29 जनवरी को प्रात: एवं रात्रि में पंथ के प्रसिद्ध कीर्तनिए भाई मनप्रीत सिंह कानपुरी पधार रहे हैं।

कार्ड मेकिंग प्रतियोगिता में बच्चों ने दिखाया हुनर : पुलिस लाइन स्थित सभागार में वामा सारथी पुलिस फैमिली वेलफेयर एसोसिएशन के तत्वावधान में एक से पांच व छह वर्ष से उच्च आयुवर्ग के बच्चों के लिए कार्ड मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें पुलिस लाइन में रह रहे पुलिसकर्मियों के बच्चों ने प्रतिभाग किया।

प्रतिसार निरीक्षक मुकेश सिंह रावत के मुताबिक रविवार को पुलिस लाइन स्थित सभागार में कार्ड मेकिंग प्रतियोगिता में पुलिसकर्मियों के बच्चों ने प्रतिभाग किया। बच्चों ने आर्ट मेकिंग प्रतियोगिता के जरिए अपना हुनर दिखाया। उन्होंने अलग-अलग तरह से कार्ड पर पेटिंग बनाई। निर्णायक एसएसपी प्रभाकर चौधरी की पत्नी प्रियंका चौधरी व एएसपी चंद्रकांत मीणा की पत्नी दीप्ति भटनागर समेत अन्य लोग रहे। प्रतियोगिता में एक से पांच वर्ष में प्रथम वैष्णवी चौधरी पुत्री फतेह सिंह, द्वितीय निधि सिंह पुत्री राहुल सिंह, तृतीय अनन्या भारद्वाज पुत्री आजाद सिंह और छह से दस वर्ष में प्रथम डिंपल पुत्री प्रेमपाल सिंह, द्वितीय काव्य पुत्री विष्णु चन्द, तृतीय सौरभ पुत्र वसंत सिंह रहे। प्रियंका चौधरी ने बच्चों को ट्राफी व प्रशस्ति पत्र दिया।

Edited By: Jagran