बिजनौर, जागरण संवाददाता। महिला के शव को चौबीस घंटे के लिए ही वारिश मिला। पंचनामा पहचान के तौर पर भर गया, लेकिन पोस्टमार्टम और अंतिम संस्कार लावारिस में हुआ। एक रात में फिल्मी स्टाइल में बदली थ्योरी से पुलिस भी हैरत में पड़ गई। आखिर, तीन दिन तक शिनाख्त का प्रयास के बाद पुलिस ने शनिवार को शव का अंतिम संस्कार कर दिया।

यह है मामला

शहर कोतवाली के बैराज पुल गेट नंबर पांच पर 11 अक्टूबर की सुबह एक 40 वर्षीय महिला का शव मिला था। ऋषिकेश से आए कुछ लोगों ने महिला के शव की शिनाख्त सीमा पत्नी नरेंद्र निवासी विकासनगर गली नंबर एक सोनीपत हरियाणा के रूप में की। उन्होंने बताया कि तीन महिलाएं तीन अक्टूबर को ऋषिकेश में ऋषि सप्त झरने के पास डूब गई थी। दो के शव मिल चुके हैं। एक लापता है। उसकी तलाश करते हुए वह ऋषिकेश से यहां आए हैं। उन्होंने हर गंगा के पुल और थाना क्षेत्र में तलाश की है। पहचान का दावा करने के बाद पुलिस ने शव का पंचनामा सीमा पत्नी नरेंद्र के तौर पर भर दिया। शव को मर्चरी पर रखवा दिया। 12 अक्टूबर को शव का पोस्टमार्टम होना था। पोस्टमार्टम से कुछ देर पहले ही नरेंद्र फिर से पोस्टमार्टम हाउस पर पहुंचे। स्वजन के साथ शव को फिर से देखने की इच्छा जताई। सभी ने शव देखने के बाद सीमा का होने से इन्कार कर दिया और चले गए। पुलिस ने शनिवार को पोस्टमार्टम के बाद शव का लावारिस में अंतिम संस्कार कर दिया है।

इनका कहना है

बैराज पुल पर महिला का शव मिला था। मृतका की पहचान हो गई थी। अगले दिन उन्होंने शव को अपना होने से इन्‍कार दिया है। काफी प्रयास के बाद मृतका की पहचान नहीं हो सकी। शव का लावारिस में पुलिस ने अंतिम संस्कार कर दिया है।

कुलदीप गुप्ता, सीओ सिटी।

 

Edited By: Prem Dutt Bhatt