बागपत, जेएनएन। एक ही नाम के दो लोगों के चलते इसका खामियाजा किसी तीसरे को भी भुगतना पड़ सकता है, इसकी एक बानगी यहां बागपत के पुलिस विभाग में देखने को मिली। दारोगा जी ने किसी के नाम का वारंट किसी और को थमा दिया, बस यहीं बात बिगड़ गई। जिसे वारंट तामील कराया वह कहता रहा कि वो बेकसूर है। लेकिन दारोगा कहा सुनने वाले थे। लगे उसी को गरियाने। बाद में मामला एसपी तक पहुंचा तो उन्‍होंने सीधे तौर पर दारोगा को कसूरवार ठहराते लाइन हाजिर कर दिया। लेकिन अब यह प्रकरण क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया है।

बागपत जिले के बड़ौत में दिल्ली बस स्टैंड चौकी प्रभारी अमोल कुमार शर्मा को एसपी ने तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया है। दरअसल, मामला यह है कि अदालत से बड़ौत शहर निवासी कल्लू नाम के व्यक्ति के एक मामले में वारंट जारी हुए थे, जिसके बाद संबंधित क्षेत्र की पुलिस को कल्लू नाम के व्यक्ति को पकड़ कर अदालत में पेश करना था।

मंगलवार की रात दिल्ली बस स्टैंड पुलिस चौकी प्रभारी अमोल कुमार शर्मा कल्लू नाम के दूसरे व्यक्ति के घर पहुंच गए और अदालत से वारंट जारी होना बताकर उसे पकड़ लिया। कल्लू ने ऐसा कोई मामला जानकारी में न होना बताकर छोड़ देने की बात कही तो दारोगा ने उनके साथ अभद्र व्यवहार कर दिया। असलियत पता चलने पर दारोगा कल्लू नाम के व्यक्ति को उसके घर छोड़ कर आ कोतवाली आ गए, लेकिन कोतवाली आकर पता चला तो किसी दूसरे कल्लू के अदालत से वारंट जारी हुए थे।

शिकायत के बाद एसपी ने दारोगा अमोल कुमार शर्मा को तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया। कोतवाली प्रभारी अजय कुमार शर्मा ने बताया कि कल्लू नाम के व्यक्ति के वारंट जारी हुए थे उसे न पकड़ कर कल्लू नाम के दूसरे व्यक्ति को पकड़ा गया, जिसके बाद दारोगा अमोल कुमार शर्मा के खिलाफ यह कार्रवाई हुई है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस