मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मेरठ, जेएनएन। गुदड़ी बाजार में सरेआम गोली बरसाकर दो लोगों को घायल करने वाले राशिद अखलाक समझौता करने के बाद भी पुलिस कार्रवाई से नहीं बच सका। कोर्ट में अग्रिम जमानत डालकर घर पहुंचा ही था कि पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद उसे जेल भेज दिया गया। पूर्व सांसद के बेटे और भतीजे की गिरफ्तारी को भी तीन टीमें बना दी गई है।

क्रिकेट के विवाद में चलीं थी गोलियां
गुरुवार को गुदड़ी बाजार में राईन और कुरैशी बिरादरी के बच्चों में क्रिकेट खेलने को लेकर मारपीट, पथराव और फायरिंग हुई, जिसमें आशिक अली और अमान को गोली लग गई। पीड़ित पक्ष की और से पूर्व सांसद शाहिद अखलाक के भाई राशिद, भतीजे यासिर, बेटे साकिब और नौशाद, समीर, शोएब उर्फ डला को नामजद किया था। पुलिस ने सलमान और बबलू को पकड़कर जेल भेज दिया। शुक्रवार को पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए राशिद ने अदालत में अग्रिम जमानत के लिए अर्जी डाली।

कर लिया था समझौता
अदालत से घर लौटे राशिद की जानकारी पुलिस को लगी। तभी सीओ कोतवाली दिनेश शुक्ला ने टीम के साथ घर के अंदर से राशिद को गिरफ्तार कर लिया। बता दें कि गुरुवार को राशिद ने अस्पताल पहुंचकर घायलों और उनके परिजनों से बातचीत कर समझौता कर लिया था। बाकायदा शपथ पत्र भी तैयार कराए थे, जिसमें पीड़ित पक्ष ने राशिद के फायरिंग करने से इन्कार किया था।

लाइसेंस के निरस्तीकरण की कार्रवाई भी होगी
शाहिद अखलाक के रिवाल्वर के लाइसेंस की निरस्तीकरण की कार्रवाई की जाएगी। कप्तान अजय साहनी ने बताया तीन मार्च को भेजी गई रिपोर्ट पर आख्या मांगी गई है। जवाब आने के बाद दोबारा से रिपोर्ट भेजी जाएगी। सरेआम फायरिंग करने वाले परिवार का लाइसेंस भी निरस्त होगा। जानकारी जुटाई जा रही है कि छह माह पहले भेजी गई रिपोर्ट पर निरस्तीकरण की कार्रवाई क्यों नहीं हुई है।

इनका कहना है
शाहिद अखलाक के भाई, भतीजे और बेटे समेत नामजद किए सभी आरोपितों की गिरफ्तारी होगी। राशिद अखलाक को जेल भेज दिया।
- अजय साहनी, एसएसपी
पुलिस बेवजह उत्पीड़न कर रही है। वादी पक्ष से समझौता होने के बाद भी पुलिस ने रात में दबिश दी। अग्रिम जमानत अर्जी के बावजूद राशिद को गिरफ्तार किया गया है।
- शाहिद अखलाक, पूर्व सांसद

Posted By: Prem Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप