मेरठ, जेएनएन। सपा नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि वह चोरी से नहीं बल्कि प्रशासन से अनुमति लेकर आए हैं। सीना तानकर आए हैं और आर्थिक मदद भी कर रहे हैं। उन्होंने हाईकोर्ट के सिटिंग जज से इस मामले की जांच कराने की भी मांग की।

बांटे पांच लाख के चेक

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर भेजे गए प्रतिनिधिमंडल ने मेरठ हिंसा में मारे गए युवकों के परिवारवालों को पांच-पांच लाख रुपए के चेक दिए। प्रतिनिधि मंडल ऐसे लोगों के घर नहीं गया, बल्कि शहर विधायक रफीक अंसारी और निवर्तमान महानगर अध्यक्ष आदिल चौधरी के घर पर परिजनों को बुलाकर चेक सौंपे। इस दौरान चौधरी ने न सिर्फ सरकार पर हमला बोला बल्कि कांग्रेस पर भी कटाक्ष करने से नहीं चूके। हाल ही में प्रिंयका गांधी की मेरठ विज़िट को लेकर भी सपा ने कटाक्ष किया।

सपा के लोग सीना तानकर आए

प्रियंका गांधी के मेरठ आने को लेकर पूछे गए सवाल पर कहा कि चोरी से आकर किसी के घर चले जाना आना नहीं हुआ बल्कि चोरी हुई। सपा के लोग सीना तानकर मृतक के परिजनों से मिलने पहुंचे हैं।उन्होंने कहा कि मारे गए मेरठ के छह लोगों के परिवार बेहद गरीब हैं। इसलिए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उनकी आर्थिक मदद का फैसला किया है। उन्होंने ने कहा कि सरकार ने निहत्थे लोगों पर लाठी और गोली चलाई है। सीएए को लेकर हुए आंदोलन को बदनाम करने की साज़िश की गई। सपा के इस प्रतिनिधिमंडल में पार्टी सांसद जावेद अली खान, पूर्व कैबिनेट मंत्री शाहिद मंजूर, एमएलसी जितेन्द्र यादव,विधायक रफीक अंसारी समेत नौ लोग शामिल थे। 

Posted By: Taruna Tayal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस