मुजफ्फरनगर, जेएनएन। लोकदल नेता चौधरी अजीत सिंह के निधन पर भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत ने दुख व्यक्त किया है । उन्होंने कहा कि अजीत सिंह किसानों के बड़े नेता थे । वह किसानों के सच्चे हमदर्द थे । जब भी किसानों के मान सम्मान कि कोई बात आयी तभी वह किसानों के साथ उठ खड़े हुए । पूर्व में महेंद्र सिंह टिकैत के समय में भी आंदोलन के दौरान साथ दिया । इस समय भी अब से लगभग डेढ़ माह पूर्व बॉर्डर पर चल रहे आंदोलन के दौरान उन्होंने आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

क‍िसानों सच्‍‍‍‍चे नेता

चौधरी अजीत सिंह राजनीतिक रूप से किसानों के हक की लड़ाई लड़ते थे । जबकि भाकियू अराजनैतिक रूप से किसानों की लड़ाई लड़ती है । वह सिसौली भी कई बार आए । उन्होंने बताया कि चौधरी अजीत सिंह के निधन होने पर गाजीपुर बॉर्डर पर आज मंच का संचालन नहीं होगा । गाजीपुर बॉर्डर पर शोक सभा आयोजित की जा रही है । जिसमें वहां उपस्थित सभी लोग उनके निधन पर श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे ।

वहीं भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत ने बताया कि किसानों को उनके निधन से भारी क्षति हुई है । जिसकी भरपाई नहीं की जा सकती । उन्होंने कहा कि चौधरी अजीत सिंह हमेशा किसान हित की बात करते थे । उद्योग मंत्री रहते हुए उन्होंने प्रदेश में कई गन्ना मिल स्थापित किए । जिसके कारण आज किसानों का गन्ना मिलों पर जा रहा है । वह हर समय किसानों के भले की सोच में लगे रहते थे । किसानों को बहुत बड़ा नुकसान है । उनकी उम्र भी ज्यादा नहीं थी । महामारी की चपेट में आने से यह घटना हुई है । सभी लोग उनके परिवार के साथ हैं ।