मेरठ। केंद्र सरकार के स्वच्छता ही सेवा अभियान के तहत सोमवार को छावनी परिषद के वार्ड तीन से सफाई शुरू हुई। अभियान के शुभारंभ के साथ ही हंगामा भी हो गया। सफाई के नाम पर खानापूरी का आरोप लगाते हुए लोग सफाई कर्मचारियों से भिड़ गये और जमकर हंगामा किया। इस मामले में कैंट के सफाई कर्मचारियों ने सात लोगों को नामजद करते हुए लालकुर्ती थाने में तहरीर दी है।

वार्ड तीन एसजीएम गार्डन के पीछे कैंट बोर्ड ने सोमवार को स्वच्छता अभियान शुरू किया। इस दौरान उपाध्यक्ष बीना वाधवा सहित कई स्वयं सेवी संगठन, स्कूली बच्चों और एनसीसी कैडेट मौजूद रहे। छावनी परिषद ने जैसे ही अपने अभियान को आगे बढ़ाया। मोहल्ले की महिलाएं और कई स्थानीय लोग अपने बैनर के साथ पहुंच गए। उन लोगों ने छावनी परिषद के स्वच्छता अभियान को तमाशा बताकर उस पर सवाल उठाया। कहा कि केवल सफाई के नाम पर खानापूर्ति हो रही है। आरोप है कि कुछ लोगों ने सफाई कर्मचारियों पर टिप्पणी कर दी। इसे लेकर सफाई कर्मचारी और स्थानीय लोग आमने सामने आ गए। दोनों तरफ से गाली गलौच और धक्कामुक्की शुरू हो गई। मामला मारपीट तक पहुंच गया। कैंट कर्मचारियों और स्थानीय लोगों के हंगामें के बीच मौजूद लोग नजारा देखते रहे।

कैंट बोर्ड की ओर से रिपोर्ट दर्ज

छावनी परिषद के सफाई कर्मचारियों ने जातिसूचक शब्द का प्रयोग करने, गालीगलौच, धक्का मुक्की करने के लिए लक्की सेठी, टिंकू डोन, सुनील, अजय, प्रतीक यादव, रेखा यादव और अन्य के खिलाफ लालकुर्ती थाने में तहरीर दी है। सफाई कर्मचारियों ने सरकारी काम में बांधा उत्पन्न करने के लिए इन सभी पर मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है। डोर टू डोर बांटे गए डस्टबिन

स्वच्छता अभियान के तहत एनसीसी कैडेटों और सेंट जोंस सीनियर सेकेंडरी स्कूल के बच्चों ने स्वच्छता रैली निकाली। कार्यक्रम में उपाध्यक्ष बीना वाधवा, मिशिका ग्रुप के अमित नागर, प्रभात राय, कर्नल विकास ठाकुर, सेंट जोंस की प्रिंसिपल चंद्रलेखा जैन, सीईई अनुज ंिसंह, स्वच्छता के ब्रांड एम्बेसडर डा. नुपूर शैलेंद्र गर्ग आदि अन्य संस्थाओं के लोग रहे। सभी ने स्वच्छता की शपथ ली। स्वच्छता को लेकर सभी ने अपनी बात रखी। इसके बाद डोर टू डोर लोगों को डस्टबिन बांटे गए। सीईई अनुज सिंह ने बताया कि सोमवार को कुछ लोगों ने राजनीति से प्रेरित होकर हंगामा किया। मंगलवार को नुक्कड़ नाटक, जादूगर शो के माध्यम से जागरूक किया जाएगा। इनका कहना--

कुछ लोगों ने अनावश्यक रूप से माहौल को खराब करने की कोशिश की। इसके बाद भी स्वच्छता अभियान पर असर नहीं पड़ा। डोर टू डोर लोगों को डस्टबिन बांटा गया। लोगों को स्वच्छता अभियान को सकारात्मक तरीके से लेकर आगे बढ़ना चाहिए।

बीना वाधवा, उपाध्यक्ष, कैंट बोर्ड

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस