मेरठ, जेएनएन। पश्चिमांचल प्रबंधन के खिलाफ आक्रोशित बिजली अभियंताओं का आंदोलन ऊर्जा भवन परिसर में चौथे दिन भी जारी रहा। प्रबंधन और अभियंता संघ के बीच हुई वार्ता विफल रही। इसके बाद अभियंता संघ ने अगले सात दिन और आंदोलन करने की रुपरेखा बनाई है। साथ ही सभी विभागीय वाट्सएप ग्रुपों को छोड़ने का भी निर्णय लिया है। उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत परिषद अभियंता संघ के उपाध्यक्ष कपिल तेवतिया ने बताया कि नोएडा के तीन अधिशासी अभियंता और आठ सहायक अभियंताओं के स्थानांतरण के प्रकरण में अभियंताओं की ओर समस्या रखने के लिए शनिवार को पश्चिमांचल के प्रबंधन से दोबारा वार्ता की गई जो कि विफल रही। इसके बाद अगले सात दिनों के आंदोलन रखने का निर्णय लिया गया है। पीवीवीएनएल के समस्त अभियंता सभी विभागीय वाट्सएप ग्रुपों से बाहर होंगे। 20 से 25 सितंबर तक जोन मुख्यालयों पर सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक विरोध-प्रदर्शन एवं कार्य बहिष्कार करेंगे। 27 सितंबर को पुन: डिस्काम के समस्त अभियंता मेरठ मुख्यालय पर एकत्रित होकर पूरे दिन विरोध प्रदर्शन एवं कार्य बहिष्कार करेंगे। उत्तर प्रदेश प्राविधिक कर्मचारी संघ, समेत अन्य संगठनों का समर्थन प्राप्त होने से विरोध प्रदर्शन तेज हो गया है। सभा में डिस्काम के सैकडों अभियंताओं ने प्रतिभाग किया। जिसमें मुख्य रूप से इंजीनियर सीपी सिंह, एके आत्रेय, विराग बंसल, अजय ओझा आदि उपस्थित रहे।

रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद के पदाधिकारियों ने ली शपथ : भैंसाली बस अड्डा परिसर में शनिवार को रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद की क्षेत्रीय इकाई का शपथ ग्रहण समारोह हुआ। जिला पंचायत अध्यक्ष गौरव कुसेड़ी ने पदाधिकारियों को शपथ ग्रहण कराई। प्रमोद कुमार ने क्षेत्रीय अध्यक्ष, सुदेश पाल ने क्षेत्रीय उपाध्यक्ष, लाखन सिंह ने क्षेत्रीय मंत्री पद की शपथ ली।

Edited By: Jagran