Move to Jagran APP

UP News: सैलून में चल रहा था जिस्मफरोशी का धंधा, सिर्फ 800 रुपये में... पुलिस ने पहुंचकर सबसे पहले किया ये काम

मेरठ में सैलून में स्पा के नाम पर महिलाओं के फोटो दिखाकर गंदा धंधा चल रहा था। पुलिस को जानकारी मिली थी कि सैलून में एक युवक को स्टिंग के लिए भेजा जाता था। युवक को लड़कियों के फोटो दिखाकर आठ सौ रुपये रेट बताया जाता था। पुलिस छापेमारी कर सैलून संचालिका मुस्लिम महिला और उसके मैनेजर को लेकर थाने ले गई है।

By sushil kumar Edited By: Aysha Sheikh Tue, 09 Jul 2024 03:10 PM (IST)
मेरठ के सैलून में चल रहा था जिस्मफरोशी का धंधा - प्रतीकात्मक तस्वीर।

जागरण संवाददाता, मेरठ। सिविल लाइंस थाना क्षेत्र में पुरानी मोहनपुरी स्थित गैलेक्सी यूनिसेक्स सैलून में जिस्मफरोशी का आरोप लगाकर पार्षद ने पुलिस से शिकायत की। सीओ के नेतृत्व में सैलून के अंदर छापामारी की गई। संचालक मुस्लिम महिला और मैनेजर को हिरासत में ले लिया। सैलून को बंद कराकर एसीएम को मामले की रिपोर्ट भेज दी गई। आरोप था कि सैलून में स्पा के नाम पर महिलाओं के फोटो दिखाकर गंदा धंधा चल रहा था।

सोमवार को पुरानी मोहनपुरी स्थित रिहायशी इलाके में गैलेक्सी यूनिसेक्स सैलून पर भाजपा पार्षद उत्तम सैनी के नेतृत्व में कालोनी के लोगों ने हंगामा कर दिया। उनका आरोप था कि सैलून में स्पा सेंटर के नाम पर जिस्मफरोशी हो रही है। उत्तम सैनी ने पुलिस को बताया कि सैलून में एक युवक को स्टिंग के लिए भेजा गया था। युवक को दस लड़कियों के फोटो दिखाए है।

बताया गया कि आठ सौ रुपये वसूले जाएंगे। उसके बाद लड़की के साथ कुछ भी कर सकते है। पुलिस ने पार्षद की शिकायत पर सीओ सिविल लाइंस अभिषेक तिवारी के नेतृत्व में सैलून पर छापामारी की। बताया जाता है कि पुलिस के पहुंचने से पहले कुछ लड़कियां वहां से निकल कर चली गई थी।

पुलिस सैलून संचालिका मुस्लिम महिला और उसके मैनेजर को लेकर थाने आ गई। महिला को उसके स्वजन के सुपुर्द कर दिया, जबकि मैनेजर को हिरासत में लेकर सैलून को फिलहाल बंद करा दिया है। सीओ अभिषेक तिवारी ने बताया कि सिविल लाइंस पुलिस की मदद से एसीएम को मामले की रिपोर्ट भेज दी गई है।

पिछले काफी दिनों से चल रहा सैलून

स्पा कराने के नाम पर ग्राहक बुलाए जाते है। उसके बाद अंदर ही जिस्मफरोशी होती है। कालोनी के लोगों का कहना है कि उक्त सैलून की वजह से कालोनी का माहौल खराब हो रहा है। पुलिस से कई बार इसके खिलाफ कार्रवाई की मांग कर चुके है।

ये भी पढ़ें - 

कोई तो करो मदद! यूपी के इस इलाके में 36 घंटे से बिजली-पानी को तरस रहे 400 परिवार, लिफ्ट बंद होने से घरों में हुए कैद