मेरठ, जागरण संवाददाता। Security of elder मेरठ के शास्त्रीनगर की पाश कालोनी में 60 वर्षीय कौशल सिरोही की हत्या के बाद अकेले रहने वाले बुजु्र्ग खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे है। ऐसे में कप्तान ने बुजुर्गों की सुरक्षा का प्लान तैयार किया है। अब अकेले रहने वाले वृद्ध महिला-पुरुषों की निगरानी का जिम्मा पुलिस को दिया है।

पूरा डाटा अपने पास रखेगी पुलिस

पुलिस थानावार ऐसे ही सीनियर सिटीजन की सूची तैयार करेगी, जो उनके क्षेत्र में अकेले रहते हैं। वहीं अगर उन वृद्धजनों के यहां नौकर रहता है, अथवा सुबह शाम आता जाता है तो उसका भी पूरा डाटा पुलिस अपने पास रखेगी। वृद्धों की सुरक्षा करने का आदेश सभी थाना प्रभारियों को एसएसपी ने भेज दिया है।

बुजुर्गों का रजिस्टर

एसएसपी रोहित सजवाण ने बताया कि थाने में बुजुर्गों का रजिस्टर पहले से बना हुआ है। उसे अपडेट करने के आदेश दिए गए है। प्रत्येक सर्किल के सीओ बुजु्र्गों के रजिस्टर को हर 15 दिनों में जांच करेंगे। पुलिस की फैंटम उनके घर पहुंचकर परेशानी के बारे में भी जानकारी लेगी।

इन बिंदुओं पर की जाएगी सुरक्षा

  • देहात और शहरी क्षेत्र में रहने वाले अकेले वृद्ध और वृद्ध दंपतियों की सूची संबंधित थाना पुलिस तैयार करेगी। यह डाटा थानास्तर पर रखा जाएाग।
  • सीनियर सिटीजन के अलावा उनके यहां रहने वाला नौकर अथवा सुबह शाम काम पर आने वाले नौकर का भी नाम, मोबाइल नंबर, मूल और अस्थाई पता भी थाने के पंजिका रजिस्टर में दर्ज होगा।
  • संबंधित थाना प्रभारी ऐसे सीनियर सिटीजन के यहां जाकर उनका हालचाल लेंगे। थाने आकर उस तारीख का हाल और उनकी समस्या को थाने पर पंजिका रजिस्टर में दर्ज करेंगे।
  • थाना प्रभारी, चौकी प्रभारी, क्षेत्र की फैंटमकर्मी भी ऐसे सीनियर सिटीजनों से फोन पर समय-समय पर बातचीत कर हाल जानेंगे।
  • एएसपी और सीओ स्तर के अधिकारी थाने में पंजिका रजिस्टर में दर्ज विजिट को चेक करेंगे और थाना स्तर पर हो रही कार्रवाई का निरीक्षण करेंगे।

Edited By: Prem Dutt Bhatt