मेरठ, जेएनएन। 19 फरवरी को दैनिक जागरण के अंक में 'हापुड़ अड्डा चौराहे से तेजगढ़ी तक के गड्ढों से अफसर अंजान' शीर्षक के साथ समाचार प्रकाशित होने के बाद इस सड़क पर रविवार को पैच वर्क शुरू कर दिया। राष्ट्रीय राजमार्ग खंड बागपत के अधिकारी ढाई किमी की शहरी सड़क को अपने स्वामित्व में मानने से ही इन्कार कर रहे थे। इस मामले में खबर प्रकाशित होने के बाद सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने अधिकारियों से नाराजगी व्यक्त करते हुए एनएच के चेयरमैन को पत्र लिखने की बात कही। तब जाकर अफसरों की नींद टूटी। हापुड़ अड्डे से तेजगढ़ी चौराहे तक शहरी सड़क पर रविवार को पैच वर्क शुरू हो गया। अपना स्वामित्व स्वीकार न करने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग खंड बागपत ने कई साल पुराने गड्ढों में पैच वर्क कराया तो स्थानीय लोगों ने राहत की सांस ली।

तेजगढ़ी चौराहे से नई सड़क तक हुआ काम

दो करोड़ की लागत से हो रहे पैच वर्क के दौरान रविवार को तेजगढ़ी चौराहे से हापुड़ अड्डे के बीच काम हुआ। तेजगढ़ी से डिवाइडर के बायीं ओर नई सड़क तक गड्ढ़ों में पैच वर्क पूरा हो गया। इससे आगे की सड़क पर कार्य जारी है।

सड़क के बारे में जानें..

सड़क की लंबाई - मेरठ से गढ़ मुक्तेश्वर (हापुड़ अड्डा चौराहे से 38 किमी)

सड़क का स्वामित्व - राष्ट्रीय राजमार्ग खंड बागपत (दो वर्ष पूर्व लोक निर्माण विभाग प्रांतीय खंड के पास थी)

सड़क का अंतिम नवीनीकरण - 28 किमी सड़क की लागत 2.80 करोड़

अंतिम नवीनीकरण - मई 2014

स्थानीय लोगों के वर्जन ..

दैनिक जागरण ने सड़क की समस्या को प्रमुखता से उठाया। कई सालों से जख्मी गड्ढों से हर कोई परेशान था। सड़क के जख्मी गड्ढों से राहत मिली है।

- डा. क्षितिज कंसल, गढ़ रोड

गढ़ रोड शहर में हैवी यातयात झेलने वाली सड़कों में शामिल होती है। इस सड़क पर तमाम व्यवसायिक व रिहायशी कॉलोनियां हैं। सब लोग गड्ढों की मुसीबत झेल रहे हैं।

- इशांक गुप्ता, जागृति विहार

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस