मेरठ: मन अगर मजबूत है तो दुनिया में कोई ताकत कुछ करने से नहीं रोक सकती। डीएन कॉलेज में जीवन संदेश ट्रस्ट के तत्वावधान में शुक्रवार को 'चले हौसले उज्ज्वल पथ पर' सम्मान समारोह और सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ। इसमें देशभर से आए दिव्यांगों प्रतिभा देखकर सभी हैरत में पड़ गए। कार्यक्रम संयोजक जीवन संदेश ट्रस्ट के अमित शर्मा रहे।

जीवन संदेश ट्रस्ट ने गायन, नृत्य, लेखन का हुनर रखने वाले दिव्यांगों को मेरठ दिव्यांग रत्न अवार्ड ऑफ इंडिया से नवाजा। समारोह में दिल्ली, हरियाणा, उत्तराखंड, मुंबई, राजस्थान, मध्य प्रदेश से गायिकी, डांस, लेखन, आर्ट आदि क्षेत्र में प्रतिभाशाली दिव्यांगों को अवार्ड दिए गए। मुख्य अतिथि पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष दयानंद गुप्ता, अभिनेत्री गरिमा अग्रवाल और धाकड़ छोरा फेम उत्तर कुमार रहे। दयानंद गुप्ता ने कहा कि जीवन संदेश ट्रस्ट का यह प्रयास बहुत सराहनीय है। शरीर से दिव्यांग भले ही हों, लेकिन मन की दिव्यांगता ज्यादा घातक है। उन्होंने कहा कि बच्चों का डांस और गायन देखकर कहीं से नहीं लगा कि ये दिव्यांग है। अभिनेत्री गरिमा अग्रवाल ने कहा कि ट्रस्ट ने यह चौथा समारोह कराया है, जिसमें देशभर से हुनरमंद बच्चे जुटे हैं। कहा कि यह हौसलों की उड़ान ही है, जो इन्हें अपना शौक और हुनर को पूरा करने से नहीं रोक पाई। आज दिव्यांगता कोई मायने नहीं रखती है। धाकड़ छोरा फेम अभिनेता उत्तर कुमार ने कहा कि दिव्यांग आज हर क्षेत्र में नाम कमा रहे हैं। दिव्यांग भाई-बहनों को कमजोर समझने वाले मानसिक दिव्यांग हैं। स्व. रविंद्र जैन, जो बचपन से ही दृष्टिहीन थे, लेकिन उनके जैसे संगीतकार फिल्म इंडस्ट्री में कम ही हुए हैं। जीवन संदेश ट्रस्ट के अमित शर्मा ने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि हम ऐसा कार्यक्रम कर पाते हैं। डीएन कॉलेज के प्रधानाचार्य बीएस यादव ने सभी की हौसलाअफजाई की। इस दौरान काफी संख्या में कॉलेज के विद्यार्थी और दर्शक मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस