मेरठ, जागरण संवाददाता।  ग्राम प्रधानों के कार्य की जांच कर लौट रहीं मनरेगा लोकपाल की चलती कार में आग लग गई। घटना के वक्त वह और एक कर्मचारी मौजूद थे। दोनों ने कूदकर जान बचाई। दमकल की गाड़ी ने आग पर काबू पाया। उन्होंने गाड़ी में किसी के गड़बड़ी करने का आरोप लगाया है। वहीं, पुलिस का कहना है कि शार्ट सर्किट से आग लगी है।

मेरठ मंडल की मनरेगा लोकपाल हैं अंशू त्यागी

नौचंदी थाना क्षेत्र के शास्त्रीनगर सेक्टर तीन निवासी अंशू त्यागी मेरठ मंडल की मनरेगा लोकपाल हैं। शनिवार दोपहर वह अपनी निजी अर्टिका कार से रजपुरा ब्लाक के गांव मसूरी और सैनी में ग्राम प्रधानों के कार्यों की जांच के लिए गई थीं। शाम को लौटते वक्त चालक के कहने पर उसे कमिश्नर चौराहे पर उतार दिया और खुद कार लेकर चल दीं। जैसे ही कार आगे बढ़ी तो धुएं की महक आई। उन्होंने कार रोकी और देखा तो कुछ नहीं मिला। इसके बाद फिर ऐसा ही हुआ तो कार रोकी, लेकिन पता नहीं चला।

जसवंत राय अस्पताल के सामने निकलने लगीं लपटें

जैसे ही तीसरी बार कार लेकर चलीं तो सुशीला जसवंत राय अस्पताल के सामने आग की लपटें निकलने लगीं। उन्होंने बताया कि कार से जरूरी सामान निकाला और कूद गईं। देखते ही देखते गाड़ी धू-धू कर जलने लगी। सूचना पर दमकल की गाड़ी पहुंची और आग पर काबू पाया। 

कार में गड़बड़ी का आरोप लगाया  

अंशू त्यागी ने बताया कि कार के साथ किसी ने गड़बड़ी की है, जिसके चलते आग लगी है। वह काफी समय से भ्रष्टाचार के खिलाफ जांच कर रही हैं। आरोप लगाया कि इसमें किसी कर्मचारी या वह जिनके खिलाफ वह जांच कर रही हैं, उनका भी हाथ हो सकता है। इस संबंध में वह तहरीर देंगी। वह इंजीनियरों से कार की जांच भी कराएंगी। बताया कि कार की 25 दिन पहले सर्विस कराई थी, कार डीजल की है। वहीं, सिविल लाइंस थाना प्रभारी उपेंद्र सिंह ने बताया कि शार्ट सर्किट से कार में आग लगी है। जांच के बाद स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। यदि कोई तहरीर आती है, तो जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Parveen Vashishta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट