मेरठ, जागरण संवाददाता। 42 लाख रुपये के छात्रवृत्ति घोटाले में फरार चल रहे स्‍कूल मैनेजर को आर्थिक अपराध अनुसंधान संगठन (EOW) ने गिरफ्तार कर लिया, जबकि स्कूल संचालक, उसकी शिक्षिका पत्नी समेत सात लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हैं। अन्य आरोपितों की तलाश में टीम दबिश डाल रही है। वारंट जारी होते ही जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी सुमन गौतम को निलंबित कर दिया था।  

यह है मामला 

साल 2013 में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक अधिकारी शेषनाथ पांडे ने 42 लाख रुपये के प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति घोटाले के मामले में स्कूल संचालक दीन मोहम्मद, शिक्षिका पत्नी नजमा, उसके भाई मोहम्मद ताहिर, तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी सुमन गौतम, जिला अल्पसंख्यक विभाग में वरिष्ठ पटल सहायक संजय त्यागी व स्कूल के मैनेजर उम्मेद अली के खिलाफ सिविल लाइन थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। शासन के आदेश पर 2017 में जांच ईओडब्ल्यू को ट्रांसफर हो गई थी। 

एक ही परिसर में संचालित थीं चार शिक्षण संस्‍थाएं 

इंस्पेक्टर राजेंद्र यादव ने बताया कि एक ही भवन में गुडविन पब्लिक स्कूल हर्रा, गुडविन अरेविक स्कूल हर्रा, मदरसा गुडविन मुल्तान नगर, मदरसा गुडविन जूनियर हाईस्कूल के नाम से संचालित हो रहे थे। फर्जीवाड़ा कर छात्रवृत्ति की धनराशि 41 लाख 68 हजार दो सौ रुपये हड़प लिए थे। मैनेजर उम्मेद अली निवासी गांव जसड़ सरूरपुर और संचालक दीन मोहम्मद निवासी गांव हर्रा का संयुक्त खाता था। रविवार को गुडविन पब्लिक स्कूल के मैनेजर उम्मेद अली को गिरफ्तार कर लिया। 

आरोपित अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी भी हैं फरार  

इंस्पेक्टर के अनुसार गिरफ्तारी वारंट जारी होते ही शासन ने बागपत की जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी सुमन गौतम को निलंबित कर दिया था। वह तभी से फरार चल रही हैं। बताया कि दीन मोहम्मद की पत्नी नजमा महाराजगंज जिले में प्राइमरी स्कूल में शिक्षिका हैं। वह भी फरार हैं। दीन मोहम्मद के रिश्तेदार नौशाद, बहादुर खान, पटल सहायक संजय त्यागी, दीन मोहम्मद का भाई मोहम्मद ताहिर के भी गिरफ्तारी वारंट प्राप्त हो गए हैं।

यह भी पढ़ेेें: कोतवाली में हेड कांस्‍टेबल को 'ये दिल तेरी आंखों में डूबा' गाना पड़ा भारी, एसपी बिजनौर ने कर दिया सस्‍पेंड  

Edited By: Parveen Vashishta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट