मेरठ, जागरण संवाददाता। Meerut Crime News मेरठ के आबूलेन में होटल राजमहल में केरल के दो परिवारों से ठगी करने वाले की लोकेशन दिल्ली में मिलने के बाद भी पुलिस पकड़ नहीं पाई। चेहरे पर मास्क लगाकर आरोपित होटल से लेकर पूरे शहर में घूमा है। फुटेज में भी उसका चेहरा साफ दिखाई नहीं दे रहा है। पुलिस ज्वैलरी की दुकान से फुटेज हासिल कर आरोपित की पहचान करने का प्रयास कर रही है। उधर, दोनों परिवार के सदस्य उपचार मिलने के बाद केरल लौट गए है।

नौकरी दिलाने के लिए इंटरव्यू को बुलाया था

केरल के तिरुवनंतपुरम निवासी अभिलाष और राहुल को जर्मनी की कास्मेटिक कंपनी में नौकरी दिलाने के लिए इंटरव्यू कराने को अनिल कुमार बेरवा पुत्र महेश वेरवा निवासी विकास विहार टंक राजस्थान ने आबूलेन स्थित राजमहल होटल में बुलाया था। अभिलाष और राहुल के परिवार को खाने में नशीली गोलियां डालकर खिलाई। उसके बाद दोनों परिवारों से 1.95 लाख की रकम ठग कर फरार हो गया।

सीसीटीवी फुटेज पुलिस ने कब्जे में ली

आरोपित की अंतिम लोकेशन पुलिस को दिल्ली के कश्मीरी गेट बस स्टैंड की मिली है। उसके बाद भी पुलिस आरोपित को पकड़ नहीं सकी है। इंस्पेक्टर का कहना है कि आरोपित की सीसीटीवी फुटेज कब्जे में ले ली गई। फुटेज में आरोपित का चेहरा साफ दिखाई नहीं दे रहा है। उसने चेहरा छिपाने के लिए मास्क लगा रखा था। जैना ज्वैलर्स से ज्वेलरी की खरीदारी और एटीएम मशीन से नकदी निकालते समय भी चेहरे पर मास्क का प्रयोग किया है। पुलिस उसके मोबाइल की सीडीआर से पहचान करने का प्रयास कर रही है। क्योंकि आरोपित अपना मोबाइल होटल के कमरे में ही छोड़ गया था। शुक्रवार को अभिलाष और राहुल के परिवार के सदस्यों की तबीयत में सुधार हो गया, जो परिवार के साथ केरल लौट गए।

मास्क लगाने पर भी होटल स्टाफ को नहीं हुआ शक

अनिल की एक आइडी प्रूफ से होटल में तीन कमरे बुकिंग किए गए थे। आरोपित चेहरे पर मास्क लगाकर घूम रहा था। उसके बाद भी होटल के स्टाफ को शक नहीं हुआ, जबकि आरोपित राजस्थान का रहने वाला था। उसके साथ आने वाले लोग केरल के है। एसएसपी रोहित सजवाण ने बताया कि इस प्रकरण में होटल की भूमिका पर भी जांच की जा रही है। होटल की तरफ से घटना के बाद भी पुलिस को सूचना नहीं दी गई है। पीडि़तों के परिवार ने ही केरल से काल कर पुलिस को सूचना दी थी।

दिल्ली, गाजियाबाद के बाद मेरठ क्यों चुना?

अनिल ने ठगी के लिए पहले दोनों परिवार को दिल्ली बुलाया था। उसके बाद गाजियाबाद के होटल में इंटरव्यू करने का प्रस्ताव रखा है। परिवार के दिल्ली आने के बाद मेरठ का राजमहल होटल बताया गया। यानि अचानक ही स्थान बदलने के पीछे क्या उद्देश्य है। पुलिस इस मामले की भी जांच कर रही है। माना जा रहा है कि ठगी के आरोपित का कोई कनेक्शन मेरठ से जरूर जुड़ा हुआ है।

Edited By: PREM DUTT BHATT

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट