मेरठ, जागरण संवाददाता। Meerut Bar Association मेरठ में जिला कारागार में बंदी को नशे की गोली देने के मामले में गिरफ्तार हुए अधिवक्ता की मेरठ बार एसोसिएशन ने सदस्यता खत्म कर दी। उधर, पुलिस ने शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से अधिवक्ता को जेल भेज दिया गया। जेल प्रशासन ने शुक्रवार को मिलने आने वालों की सघनता से चेकिंग की। टीपीनगर निवासी साजन उर्फ लुक्का जेल में बंद है।

डिप्‍टी जेलर ने पकड़ लिया था

गुरुवार दोपहर जागृति विहार निवासी अधिवक्ता अनुज गुप्ता उससे मिलने गए थे। आरोप है कि नशे की गोली देते हुए डिप्टी जेलर ने उसे पकड़ लिया था। मेडिकल पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से जेल भेज दिया। उधर, मेरठ बार एसोसिएशन ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस सभागार में बैठक की।

छवि हुई धूमिल

अध्यक्ष गजेंद्र पाल सिंह और महामंत्री अजय कुमार शर्मा ने कहा कि अधिवक्ता द्वारा किए गए कार्य से छवि धूमिल हुई है। इसके चलते ही मेरठ बार एसोसिएशन ने तत्काल प्रभाव से उनकी सदस्यता खत्म कर दी। इस बारे में उत्तर प्रदेश बार काउंसिल को भी अवगत करा दिया है। साथ ही पंजीकरण निरस्तीकरण की कार्रवाई के लिए पत्र भेजा है।

कर्मचारियों की संख्या बढ़ाई

जेल अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि नशे की गोली का मामला सामने आने के बाद शुक्रवार को जांच और तलाशी के दौरान सतर्कता बढ़ा दी गई थी। गेज से लेकर अंदर तक जेल कर्मचारियों की संख्या दो गुनी कर दी गई। सामान से लेकर मिलने वालों तक की तलाशी ली गई। इसके साथ ही जेल में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी बाद में देखी जाएगी।

जेल में लुक्का कहीं सप्लाई तो नहीं करता

गुरुवार को अधिवक्ता के पास से मिलाई के दौरान 24 सौ गोलियां मिली थी। इतनी बड़ी संख्या में गोली मिलने के पीछे कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। अकेले व्यक्ति के लिए तो इतनी गोली नहीं आती। कहीं साजन उर्फ लुक्का ने जेल में नशे की गोली सप्लाई करने के लिए तो नहीं मंगाई थी। जेल अधीक्षक का कहना है कि हर बिंदु पर मामले की जांच की जा रही है। 

Edited By: PREM DUTT BHATT

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट