जागरण संवाददाता, मेरठ
भूजल को रिचार्ज करने के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग यूनिट की जरूरत बताई गई है। मेरठ शहर में लगातार भूजल की समस्या गहराती जा रही है। 'दैनिक जागरण' के 'माय सिटी माय प्राइड अभियान' में रेन वाटर हार्वेस्टिंग यूनिट स्थापना का आह्वान हुआ। उद्यमियों ने सीएसआर ( कॉरपोरेट  सोशल रेस्पांसिबिलिटी) केे तहत रेन वाटर हार्वेस्टिंग यूनिट स्थापित करने की पहल शुरू की है। 'दैनिक जागरण' का महाभियान 'माय सिटी माय प्राइड' अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ रहा है। इसका नतीजा जल्द धरातल पर दिखाई देगा, यह शहर की तस्वीर बदल देगा।

अभियान में राउंड टेबल कांफ्रेंस में शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, मूलभूत सुविधाएं, अर्थव्यवस्था पर कार्य करने का लक्ष्य तय किया गया था। ये लक्ष्य जन सहभागिता, सीएसआर और शासन वर्ग के अंतर्गत चयनित किए गए थे। यानी कुछ काम लोगों के आपसी सहयोग, कुछ काम उद्यमियों के खर्च से व कुछ कार्य शासन की योजना के तहत कराने का लक्ष्य रखा गया। इसी क्रम में उद्यमियों ने रेन वाटर हार्वेस्टिंग यूनिट लगाने का वादा किया था।

आइआइए में होगा विशेषज्ञ का व्याख्यान
इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन व प्रमुख शिक्षण संस्थान अपने भवन परिसर में रेन वाटर हार्वेस्टिंग यूनिट बनवाएंगे। इस संबंध में आइआइए के मंडलीय अध्यक्ष अतुल भूषण गुप्ता ने घोषणा की थी। इस पर आइआइए ने आगे कदम बढ़ाया है। मेरठ मैनेजमेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष अंकुर जग्गी ने बताया कि आइआइए के पदाधिकारियों से बात हुई है। सभी लोग इसके लिए तैयार हैं। जल्द ही रेन वाटर हार्वेस्टिंग यूनिट के विशेषज्ञ का व्याख्यान कराया जाएगा। सभी उद्यमी इसकी लागत, उपयोगिता आदि से परिचित होंगे। फिर इसके बाद सभी फैक्ट्रियों व शिक्षण संस्थानों में इसकी शुरुआत कराई जाएगी।

शिक्षण संस्थानों का मिल रहा आमंत्रण
रेन वाटर हार्वेस्टिंग क्षेत्र में कार्य कर रहे गिरीश शुक्ला ने बताया कि इसके प्रति लोग जागरूक हो रहे हैं। कई शिक्षण संस्थानों ने उन्हें अपने यहां हार्वेस्टिंग यूनिट बनाने का आमंत्रण दिया है। यदि आइआइए उनसे सहयोग लेता है तो वह तैयार हैं। इस मिशन को आगे बढ़ाना है और शहर का भूजल स्तर सुधारना है।

कॉलोनियों का पानी भी होगा रिचार्ज
रियल स्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन के महासचिव कमल ठाकुर ने कहा कि कॉलोनी विकसित करने वाले कॉलोनाइजर्स से बात चल रही है। कॉलोनियों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग यूनिट बनवाई जाएगी। फ्लैट वाले आवासीय परिसर में भी इसे बनवाया जाएगा।

By Krishan Kumar