मेरठ, जेएनएन। कंकरखेड़ा की मंगलपुरी में नौ जून को आरएएफ के रिटायर्ड दारोगा के घर हुई पचास लाख की चोरी में स्थानीय बदमाशों की अहम भूमिका है। बदमाशों ने नौ जून को दिन दहाड़े महज चार घंटा पांच मिनट में ही मुख्य गेट से लेकर तीन कमरों के दरवाजों के ताले और दो लाकर को तोड़कर चोरी को अंजाम दे दिया था। पुलिस भी मान रही है कि स्थानीय बदमाशों ने रैकी कर तुरंत चोरी को अंजाम दिया है। जिसके बाद पुलिस टीम मंगलपुरी के संदिग्धों समेत क्षेत्र के बदमाशों की धर पकड़ में जुट गई है।

यह है मामला

कंकरखेड़ा थानाक्षेत्र की मंगलपुरी कालोनी निवासी आरएएफ से रिटायर्ड दारोगा प्रेमराज सिंह नौ जून की सुबह करीब 10:15 बजे अपनी बेटी के घर के महुर्त में स्वजन समेत शास्त्रीनगर गए थे। दोपहर 1:57 बजे प्रेमराज का छोटा भाई सीआरपीएफ जवान अनिल की पत्नि सरिता ने अपने जेठ को फोन कर मुख्य गेट के दरवाजे के ताले टूटे होने की सूचना दी। अनिल का मकान प्रेमराज के मकान के सामने है। 2:20 बजे प्रेमराज स्वजन समेत अपने घर पहुंच गए। मुख्य गेट से लेकर सभी कमरे और दो लाकर के ताले टूटे पड़े थे। प्लाट खरीदने के लिए रखे दस लाख रुपये केश समेत करीब चालीस लाख रुपये के सोने-चांदी के गहने चोरी हो गए थे। इतनी बड़ी चोरी को बदमाशों ने महज चार घंटे पांच मिनट में अंजाम दिया था।

शुक्रवार को सीओ दौराला, इंस्पेक्टर कंकरखेड़ा ने भी मौके का मुआयना कर कालोनी के सभी मार्ग को चेक किया। पुलिस भी मान रही है कि चार घंटे के भीतर कई ताले तोड़कर चोरी करने की घटना को स्थानीय बदमाश ही कर सकते हैं। इंस्पेक्टर तपेश्वर सागर का कहना है कि पुलिस टीम को कई बिंदू मिले हैं, जल्द ही चोरी का राजफाश होगा।

 

Edited By: Taruna Tayal