मेरठ, जागरण संवाददाता। Kanwar Yatra 2022 कांवड़ यात्रा के मददेनजर दिल्ली-हाईवे और एक्सप्रेस-वे पर 14 जुलाई से भारी वाहनों पर रोक लगा दी जाएगी। कांवड़ियों की संख्या बढ़ने पर हाईवे बंद का भी निर्णय लिया जाएगा। साथ ही शहर के अंदर कांवड़ियों के आने के लिए दिल्ली रोड पर रैपिड़ के बेरियर को एक-एक फीट अंदर किया जाएगा।साथ ही जलाभिषेक से तीन दिन पहले कांवड़ियों की संख्या बढ़ने पर रैपिड का काम रोक दिया जाएगा।

इस बार शिवभक्‍तों में है उत्‍साह

रैपिड रेल के पदाधिकारियों से पुलिस और प्रशासनिक अफसरों ने बातचीत कर ली है। 13 जुलाई से सावन मास का शुभारंभ हो रहा है। सावन मास शुरू होते ही दूर-दराज के शिवभक्त गगंगोत्री, हरिद्वार, ऋषिकेश, ब्रजघाट से कंधों पर गंगाजल लेकर चलेंगे। महाशिवरात्रि 26 जुलाई को है, इस दिन कांवड़ियां भगवान आशुतोष का जलाभिषेक करेंगे। पिछले दो सालों से कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण यह कांवड़ यात्रा बंद रही थी। अब कोरोना का संक्रमण कम हो चुका है, इसलिए कांवड़ यात्रा पर जाने वाले शिवभक्तों में काफी उत्साह है।

इस प्रकार रहेगी व्‍यवस्‍था

शिवभक्तों की भीड़ को देखते हुए दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे और हाईवे पर भारी वाहनों को 14 जुलाई से रोक दिया जाएगा। कांवड़ियों की संख्या बढ़ने पर दिल्ली हाईवे पर वाहनों को प्रतिबंधित भी किया जाएगा। एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि मंगलवार को पूरी प्लानिंग की प्रेस विज्ञप्ति जारी कर दी जाएगी। 14 जुलाई से भारी वाहनों पर रोक लगा दी जाएगी। उन्हें वैकल्पिक मार्ग की व्यवस्था दी जाएगी।

शहर के अंदर ई-रिक्शा और आटो पर भी लगेगी रोक

शहर के अंदर ई-रिक्शा के साथ आटो पर भी प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। शहर के अंदर कांवड़ियों की संख्या बढ़ने के बाद यह निर्णय लिया जाएगा।

आवश्यक वस्तु वाहनों की व्यवस्था

अखबार, दुग्ध, ब्रेड, एवं सब्जी आदि के हल्के चार पहिया सप्लाई वाहनों को कांवड़ का स्टीकर पास जारी किए जाएंगे।

गत वर्षों की भांति होगी दिल्ली-देहरादून हाईवे पर वैकल्पिक व्यवस्था

दिल्ली से यूपी गेट होते हुए विजय नगर एनएच 24 पर आएंगे। यहां से डासना तिराहा, पिलखुवा, हापुड़ होते हुए साइलो पुलिस चौकी द्वितीय से किठौर और वहां से तेजगढ़ी चौराहे से सोहराबगेट बस स्टैंड पर जाएंगे। यहां से जेल चुंगी होते हुए मवाना, रामराज, मीरापुर, जानसठ, सिखेड़ा, जानसठ बाइपास, भोपा बाइपास, पंचेड़ा बाइपास, रामपुर तिराहा, देवबंद से झबरेड़ा और हरिद्वार पहुंचेंगे।

देहरादून के लिए

देवबंद से तल्हेड़ी बुजुर्ग, नागल, गागलहेड़ी, सैयद माजरा होते हुए छुटमलपुर और वहां से देहरादून जाएंगे। 

Edited By: Prem Dutt Bhatt