मेरठ, जेएनएन। वाणिज्य कर विभाग की प्रवर्तन शाखा ने बुधवार देर रात 20 लाख रुपये कीमत की मूंगफली से भरा ट्रक बागपत से जब्त किया। बिलों की जांच में टैक्स चोरी का मामला सामने आया।

ट्रक संख्या आरजे10जीबी- 3036 की ई वे बिल जांच से पता लगा कि बीकानेर (राजस्थान) की बाला जी इंटरप्राइजेज द्वारा मेरठ के इंद्रानगर निवासी एक व्यक्ति को मूंगफली की सप्लाई भेजी गई थी। एक अन्य मामले में कंकरखेड़ा से संगमरमर और ग्रेनाइट से लदा ट्रक पकड़ा गया। ट्रक में लदे माल की कीमत बिल में छह लाख रुपये दर्शाई गई है। यह सप्लाई भी फर्म के बजाय व्यक्ति विशेष के नाम पर हुई है। माल सप्लायर अजमेर की पवन मार्बल और टाइल्स का रिकार्ड खंगाला जा रहा है।

टैक्स चोरी का नया ट्रेंड

टैक्स चोरी के पकड़े गए मामले एक नए ट्रेंड की ओर इशारा कर रहे हैं। सवाल यह उठ रहा है कि मूंगफली आखिर व्यक्ति विशेष के नाम पर क्यों मंगाई गई। दरअसल, अगर कोई फर्म के नाम से टैक्स चोरी करते पकड़ा जाता है तो विभाग उसके पूर्व के लेनदेन को भी खंगालता है। व्यक्तिगत सप्लाई लेने पर फर्म के लेन-देन सामने नहीं आ पाते। इस तरह एक ही मामले में टैक्स चोरी पकड़ में आती है।

महिला का दो लाख रुपये से भरा पर्स चोरी : ई-रिक्शा में सवार महिला का दो लाख रुपये से भरा पर्स चोरी हो गया। पर्स गायब देख महिला के होश उड़ गए। उसने आसपास पर्स की तलाश भी की। महिला ने तहरीर दी है।

लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र के शालीमार गार्डन गली नंबर-तीन निवासी उमा पत्नी जहीर के मुताबिक शुक्रवार को उसे गढ़मुक्तेश्वर स्थित अपने मायके जाना था। घर में कमेटी के दो लाख रुपये रखे थे। उमा अपनी चार बेटी व बहन हिना पत्नी अख्तर के साथ रुपये लेकर ई-रिक्शा में बैठ गई। जैसे ही वह सोहराब गेट डिपो पहुंची तो रुपयों से भरा पर्स गुम देखकर महिला के होश उड़ गए। उसने आसपास पर्स की तलाश की, लेकिन नहीं मिला। उमा ने लिसाड़ी गेट थाने पहुंचकर बताया कि उसी ई-रिक्शा में एक महिला व युवक बैठे थे। उसने शक जाहिर करते हुए उनके खिलाफ तहरीर दी है। लिसाड़ी गेट थाना प्रभारी उत्तम सिंह राठौर का कहना है कि आसपास की फुटेज खंगाली जा रही है। महिला और युवक की पहचान कर उनसे पूछताछ की जाएगी। टीम काम कर रही है। जल्द ही मामले का राजफाश कर दिया जाएगा।

Edited By: Jagran