मेरठ। काग्रेस के भारत बंद के समर्थन में सपा सुप्रीमो द्वारा तहसील मुख्यालय पर किए धरना प्रदर्शन के एलान के मद्देनजर सोमवार को मवाना स्थित तहसील मुख्यालय पर सपाइयों ने साकेतिक धरना दिया।

धरने में पूर्व कैबिनेट मंत्री शाहिद मंजूर ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा जुमले बाज भाजपा सरकार ने चुनावी एजेंडा में बताए एक भी काम नहीं किया जिसे लोग याद रखेंगे। नोटबंदी को गलत बताते हुए लोगों को लंबी-लंबी लाइन में लगाकर परेशान किया। गन्ने का भुगतान समय पर नहीं किया जा रहा और सारे सीजन गन्ना डालने को तरसते रहे। जुमलेबाज सरकार ने लोगों को जोड़ने की बजाए बाटने का काम किया। पेट्रोल डीजल के दाम आसमा छूट रहे हैं और आय के साधन सीमित हो रहे हैं। आवारा पशुओं से किसानों की फसल बरबाद हो रही।

सरकार गोकशी प्रतिबंधित कर रही है लेकिन इंतजाम कुछ नहीं कर रही। वहीं, मुस्लिम समाज को आगाहा करते हुए कहा कि गाय से देश की आस्था जुड़ी हुई है। गोकशी नहीं करें और कानून का पालन भी करें। उन्होंने कहा कि तीन तलाक व शरई अदलतों का डर दिखाकर समाज को बांटने का काम भी किया जा रहा है। स्थानीय लीडर शिप पर किसी का नाम लिए बिना बोले सत्ता में लौटे तो इसका जवाब दिया जाएगा। पूर्व विधायक प्रभुदयाल वाल्मीकि ने भी उक्त बातों का समर्थन करते हुए गुन्ना भुगतान समेत अन्य मागों को लेकर राज्यपाल के नाम एसडीएम अंकुर श्रीवास्तव को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर दीपक गिरी, रिहानू दीन, अमित पंवार, इंदरमुनि त्यागी, अनुराग, नितिन त्यागी, हेमराज गुर्जर, हाजी इरफान कुरेशी आदि लोग उपस्थित रहें।

Posted By: Jagran