मेरठ। सेना की ओर से बंद किए गेट से रात में आम वाहन नहीं निकल सकेंगे। उनके लिए रात 10 बजे से सुबह पांच बजे तक के लिए आवाजाही प्रतिबंधित कर दिया गया है। केवल मेडिकल और आपातकालीन स्थिति में ही बड़े गेट खोले जाएंगे। कैंट बोर्ड ने सार्वजनिक सूचना जारी कर लोगों से आपत्ति और सुझाव मांगा है।

नवंबर में बोर्ड की बैठक में सब एरिया कमांडर के सामने इसे लेकर निर्णय हुआ था। इसके अनुपालन में कैंट बोर्ड ने अब सार्वजनिक सूचना जारी की है। छावनी क्षेत्र में रह रहे सैनिक परिवारों और सैन्य यूनिटों की सुरक्षा के लिए यह निर्णय लिया गया है। इसके तहत तिराहा डबल गेट, सिख सेंटर गेट और आरए बाजार गेट को आंशिक रूप से बंद किया गया है। इसमें सुबह पांच बजे से रात 10 बजे तक ये सभी गेट सभी तरह के वाहनों के लिए खुले रहेंगे। लेकिन रात 10 बजे के बाद इन सभी गेटों को बंद कर दिया जाएगा। रात 10 से सुबह पांच बजे तक केवल इमरजेंसी में इन गेटों से वाहन निकल सकेंगे। हालांकि इसे लगे छोटे गेट खुले रहेंगे। कैंट बोर्ड के सीईओ प्रसाद चव्हाण ने बताया कि इस विषय में अगर छावनी के लोगों की कोई आपत्ति या सुझाव है तो वह उसे छावनी परिषद को भेज सकते हैं। ताकि उस सुझाव और आपत्ति को भारत सरकार को भेजा जा सके। मंडप एसोसिएशन के चुनाव प्रक्रिया का विरोध

मंडप एसोसिएशन के चुनाव को लेकर व्यापारियों में दो फाड़ हो गए हैं। एक गुट ने शनिवार को जोरशोर से नामांकन किया। वहीं दूसरे पक्ष ने चुनाव की तिथियों को लेकर विरोध जताया है। बुढ़ाना गेट स्थित गिरीश टेंट डेकोरेटर्स के कार्यालय पर सुबोध गुप्ता और उनके पैनेल ने नामांकन दाखिल किया। चुनाव अधिकारी गिरीश के समक्ष पांच पदों के लिए नामांकन दाखिल किए गए। अध्यक्ष पद पर मनोज गुप्ता, महामंत्री पद पर विपुल सिंघल, और कोषाध्यक्ष पद पर नवीन कुमार अग्रवाल ने पर्चा भरा है। वहीं अरविंद मारवाड़ी ने कहा कि पूर्व में हुई बैठक में नामांकन दाखिल करने की तिथि 26 रखी गई थी। उन्होंने चुनाव प्रक्रिया का विरोध करने की बात कही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस