मेरठ, जेएनएन। हाईवे पर पशुओं से भरे ट्रकों से गुंडा टैक्स वसूलने वाले पाच आरोपितों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस ने फरार चार आरोपितों की धरपकड़ को दबिश डाली। साथ ही उन पर इनाम घोषित कराने और कुर्की की तैयारी भी की जा रही है। इनमें दो आरोपित टीपीनगर थाने के पुलिसकर्मी हैं। बता दें कि पुलिस ने मुकदमे में नामजद नौ आरोपितों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल कर दी है।

22 अक्टूबर की रात दिल्ली हाईवे पर सुशात सिटी के सामने शामली की बनत पशु पैंठ से पशु ले जा रहे ट्रकों से वसूली करते रिजवान निवासी जानसठ मुजफ्फरनगर, हाल निवासी लिसाड़ीगेट, कपिल उर्फ आदित्य निवासी घाट परतापुर, बाली उर्फ ललित निवासी जुर्रानपुर परतापुर, विपिन पाल इंदिरापुरम और चिंकू निवासी शताब्दीनगर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। वसूली गैंग के सरगना अक्षय भड़ाना निवासी जुर्रानपुर, आशुतोष नेताजी निवासी गंगानगर और सिपाही राहुल और संदीप नागर को पुलिस अभी तक पकड़ नहीं पाई है। आशुतोष नेताजी और अक्षय भड़ाना की सत्ताधारी पार्टी के बड़े नेताओं से बातचीत होना भी पाया गया है। पुलिस ने दो पुलिसकर्मी समेत सभी नौ आरोपितों के खिलाफ आइसीपी की धारा 386 यानी रंगदारी में आरोपित पत्र कोर्ट में दाखिल कर दिया है। साथ ही जेल गए पाच आरोपितों के खिलाफ टीपीनगर थाने में गैंगस्टर एक्ट का मुकदमा दर्ज करा दिया है। जेल में बंद आरोपितों का गैंगस्टर में रिमाड भी बना दिया है ताकि उन्हें जमानत न मिल सके।

एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि फरार चल रहे आरोपितों पर इनाम और कुर्की की कार्रवाई के प्रयास किए जा रहे हैं। गैंगस्टर एक्ट में सभी आरोपितों की अवैध तरीके से कमाई संपत्ति के जब्तीकरण की कार्रवाई भी की जाएगी।

Edited By: Jagran