बागपत, जेएनएन। सिंघावली अहीर थाने में हेड कांस्टेबल और गांजा तस्कर महिला की आडियो वायरल का मामला अभी दबा भी नहीं था कि बड़ौत कोतवाली में उससे भी बड़ा मामला सामने आया है।

कोतवाली क्षेत्र की मंडी पुलिस चौकी ने ट्राली चोरी के मामले में पीड़ित और चोरों के बीच ही समझौता करा दिया। चोरों ने पीड़ित को 65 हजार रुपए दिलवा दिए और आरोपितों से कुछ रुपए अपने भी तय कर लिए, लेकिन मामला बिगड़ जाने के बाद दारोगा को चोरों को जेल भेजना पड़ा, जिसके बाद दारोगा ने पीड़ित पक्ष से 65 हजार रुपए दिलाने के लिए कहा तो बातचीत की आडियो वायरल हो गई। बड़का गांव निवासी जयकृत की चार अक्टूबर को ट्राली चोरी हो गई थी। घटना की तहरीर उसने कोतवाली में दी थी। 14 अक्टूबर को गोरीपुर मोड़ से पीड़ितों ने अपनी ट्राली को पकड़कर पुलिस को जानकारी दी। पुलिस ने ट्राली कब्जे में लेकर आरोपितों को हिरासत में ले लिया। जयकृत ने बताया कि मंडी पुलिस चौकी के एक दरोगा ने दोनों पक्षों में समझौता करा दिया। आरोपित पक्ष से 65 हजार रुपए उन्हें दिलवा दिए और चुप बैठ जाने को कहा। बताया यह भी जाता है कि दरोगा ने चोरों ने अपने भी कुछ रुपए तय कर लिए। आरोपितों ने तय समय पर दारोगा को रुपए नहीं दिए तो दारोगा ने चोरी के तीन आरोपितों को पकड़ लिया, जिसके बाद मंगलवार को उन्हें जेल भेज दिया।

दारोगा ने जयकृत से समझौते के 65 हजार रुपए वापस मांगे और आरोपितों के लौटाने चाहे, लेकिन पीड़ित पक्ष रुपए लौटाने में आनाकानी करता रहा। इस मामले में दोरागा और पीड़ित पक्ष के बीच रुपए लौटाने को लेकर बातचीत हुई तो पीड़ित पक्ष ने बातचीत को रिकार्ड कर लिया।

पीड़ित पक्ष न्याय की मांग को लेकर मंगलवार को एसपी से भी मिला और बाद में चार आडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दिए गए, जिसमें दारोगा 65 हजार रुपए वापस करने के लिए दबाव बना रहा है। उधर, पीड़ित पक्ष बुधवार को कोतवाली में पहुंचा और इस बाबत पुलिस से बातचीत की। बताया जाता है कि इस मामले की जांच शुरू हो गई है और दारोगा पर गाज गिरने वाली है। एसपी नीरज कुमार जादौन ने बताया कि यह मामला जानकारी में नहीं है।

 

Edited By: Taruna Tayal