मेरठ, जेएनएन। वाहनों की अधिकता के कारण रविवार दोपहर को दिल्ली-मेरठ हाईवे पर भीषण जाम लग गया। इससे लोगों को तीन से चार घंटे परेशानी हुई। शनिवार की रात को मुरादनगर में भी लोगों ने दोनों तरफ करीब ढाई से तीन किलोमीटर की दूरी में जाम झेला। बेहाल लोगों को वैकल्पिक रास्ते भी पूरी तरह जाम मिले।

रविवार को बस अड्डे के आसपास सड़क किनारे बड़ी तादाद में वाहन बेतरतीब खड़े हो गए, जबकि को वीकेंड के चलते सड़क पर वाहनों की अन्य दिनों की अपेक्षा अधिकता थी। इसी कारण हाईवे पर दौड़ रहे वाहनों की रफ्तार पर विराम लग गया। गाजियाबाद से मेरठ की तरफ वाहनों की कतारें महेंद्रपुरी गेट के सामने से लेकर मोदी मंदिर तक जबकि, मेरठ से गाजियाबाद की ओर वाहनों की कतारें मोदी शुगर मिल के सामने से लेकर गोविदपुरी तक पहुंच गई। 12 बजे से लेकर चार बजे तक लोगों को जाम की भयावह स्थिति का सामना करना पड़ा। इसके बाद वाहनों का दबाव कम होने तथा पुलिस की सक्रियता से स्थिति में सुधार हो पाया। उधर, शनिवार की रात को मुरादनगर में अबूपुर के सामने से लेकर असालतनगर स्थित हनुमान मंदिर तक हाईवे पर भयंकर जाम लगा रहा। सड़क किनारे पड़ने वाले बैंक्वेट हॉल में शादियों में आने वाले लोगों ने अपने वाहन जगह नहीं मिलने पर सड़क पर खड़े कर दिए। कई चढ़त भी हाईवे पर भी संपन्न हुई, जिससे हाईवे पर वाहनों की गति थम गई। रात 12 बजे के बाद स्थिति में सुधार आया। स्थिति यह थी कि लोगों को जलालपुर रोड, पाइपलाइन मार्ग, गंगनहर रेगुलेटर, चुंगी नंबर तीन व अन्य वैकल्पिक रास्तों पर भी जाम की स्थिति का सामना करना पड़ा। इस बारे में सीओ मोदीनगर केपी मिश्रा का कहना है कि कई दिनों से हाईवे पर यातायात व्यवस्था पूरी तरह से सही चल रही है। रविवार को वाहनों की अधिकता के चलते हाईवे पर कुछ देर के लिए जाम की स्थिति बन गई थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप